December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

राहुल और केजरीवाल पर भाजपा का हमला

भाजपा का कहना है कि पूर्व सैनिकों के नाम पर जो घटिया राजनीति कांग्रेस एवं आम आदमी पार्टी कर रही है उसे दिल्ली और देश की जनता समझ रही है।

Author नई दिल्ली | November 5, 2016 00:42 am

भाजपा का कहना है कि पूर्व सैनिकों के नाम पर जो घटिया राजनीति कांग्रेस एवं आम आदमी पार्टी कर रही है उसे दिल्ली और देश की जनता समझ रही है। पार्टी का कहना है कि देश के वर्तमान एवं पूर्व सभी सैनिक राहुल गांधी एवं केजरीवाल की ओर से की जा रही ओछी राजनीति को स्वीकार नहीं कर रहे हैं। इसका प्रमाण है कि इतने भड़काने के बाद भी पूर्व सैनिकों के किसी भी संगठन ने ऐसा नहीं कहा है कि देश में ओआरओपी लागू नहीं हुआ। शुक्रवार को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय और विजेंद्र गुप्ता ने पत्रकारों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि क्या यह सच नहीं कि 1971 की लड़ाई में विजय का श्रेय लेने वाली राहुल की दादी इंदिरा गांधी ने तब तक दी जाने वाली वन रैंक वन पेंशन को 1973 में बंद कर दिया था? उसके बाद कांग्रेस की विभिन्न सरकारों ने जिनका रिमोर्ट कंट्रोल गांधी परिवार के पास ही रहा है ने कभी भी पूर्व सैनिकों की वन रैंक वन पेंशन की मांग पर कोई काम नहीं किया? क्या राहुल गांधी बताएंगे कि आज जब वे इस मुद्दे पर भ्रमित करने के लिए राजनीति कर रहे हैं तो क्या उन्हें मालूम था कि हारती हुई मनमोहन सिंह सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के दबाव में पूर्व सैनिकों को ओरओपी देने की आधी-अधूरी मंजूरी दी थी और जिसके लिए मात्र 550 करोड़ रुपए का प्रावधान किया था?

 

भाजपा का सवाल है कि क्या राहुल गांधी को यह पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने 20,63,763 पूर्व सैनिकों के लिए वन रेंक वन पेंशन योजना लागू की है और उसमें 19,12,520 से अधिक पूर्व सैनिकों को सभी विसंगतियां दूर करके 5507 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान किया जा चुका है।

 


उपाध्याय ने कहा कि क्या अरविंद केजरीवाल इस देश की जनता को यह बताएंगे कि उन्होंने अपनी आंख के सामने मरते किसान गजेंद्र सिंह को बचाने के लिए क्या प्रयास किया था? आज एक पूर्व सैनिक की दुखद आत्महत्या पर तो वे राजनीति करते हुए उन्हें शहीद कह रहे हैं पर अभी पिछले दिनों उड़ी या उससे पूर्व अन्य स्थानों पर शहीद हुए सैनिकों की शहादत पर उनमें से किसी के भी परिवार से आज तक मिले?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 5, 2016 12:39 am

सबरंग