ताज़ा खबर
 

सुप्रीम कोर्ट ने विधायक राज बल्लभ यादव की जमानत की रद्द, नाबालिग के रेप का है आरोप

यादव ने इस साल छह फरवरी को बिहारशरीफ में अपने आवास पर कथित तौर पर नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार किया था।
राजद से निलंबित विधायक राज बल्लभ यादव। (PTI File Photo)

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार (24 नवंबर) को बिहार के विधायक राज बल्लभ यादव की जमानत रद्द कर दी है। राजद के पूर्व नेता यादव पर एक नाबालिक लड़की के बलात्कार का आरोप है। मामले में उन्हें पटना हाई कोर्ट ने 30 सितंबर को इस मामले में जमानत दे दी थी। नीतीश कुमार सरकार की ने पटना उच्च न्यायालय द्वारा यादव को जमानत दिए जाने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में  चुनौती दी थी। यादव ने इस साल छह फरवरी को बिहारशरीफ में अपने आवास पर कथित तौर पर नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार किया था। यादव मामले दर्ज किए जाने के के बाद काफी समय तर गिरफ्तारी से बचते रहे थे। स्थानीय अदालत द्वारा उन्हें भगोड़ा करार दिए जाने के लिए नोटिस जारी किए जाने और पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण नहीं करने के लिए उनकी संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिए जाने पर उन्होंने आत्मसमर्पण किया था।

बिहार पुलिस ने अपने आरोप पत्र में एक महिला और उसके रिश्तेदारों को भी इस आधार पर नामजद किया है कि वो नवादा विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले राजद विधायक को कथित तौर पर महिलाओं और लड़कियों की आपूर्ति करते थे। राजद ने यादव के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किए जाने के एक दिन बाद 14 फरवरी को उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था।

न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति एन वी रमण की पीठ ने यादव को नोटिस जारी किया और उन्हें अपना जवाब अदालत में दाखिल करने का निर्देश दिया था। बिहार सरकार के वकील गोपाल सिंह ने पीठ से अनुरोध किया था उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगाई जाए और कहा कि निचली अदालत कथित पीड़िता का बयान दर्ज कर रही है। हालांकि, पीठ ने आदेश पर रोक लगाने से इंकार कर दिया। पीठ ने कहा, ‘हमने आपसे पूछे बिना नोटिस जारी किया है।’ सिंह ने कहा था कि पटना उच्च न्यायालय ने इस तरह के जघन्य अपराध के मामले में यादव को जमानत देकर गलती की।

वीडियोः बिहार: अज्ञात लोगों ने एक महिला इंजीनियर को घर में बंद कर ज़िंदा जलाया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग