ताज़ा खबर
 

शरद यादव गुट का दावा- साथ है जदयू की 14 प्रदेश इकाइयों के समर्थन

यादव के करीबी और हाल में पार्टी से निष्कासित किए गए गुजरात इकाई के पूर्व महासचिव अरुण श्रीवास्तव के अनुसार शरद यादव के धड़े को 14 राज्य इकाइयों के अध्यक्षों का समर्थन प्राप्त है।
Author August 14, 2017 03:24 am
वरिष्ठ जदयू नेता शरद यादव(File Photo)

जनता दल (एकी) के बागी नेता शरद यादव अपने समर्थकों के साथ अपने धड़े को असली पार्टी होने का दावा पेश करेंगे। शरद यादव गुट का दावा है कि कई प्रदेश इकाइयां उनके साथ हैं जबकि पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार को केवल बिहार इकाई का समर्थन हासिल है। उन्हें 14 प्रदेश इकाइयों के समर्थन का दावा बागी गुट कर रहा है। यादव के धड़े में राज्यसभा के दो सांसद और पार्टी के कुछ राष्ट्रीय पदाधिकारी भी शामिल हैं। नीतीश कुमार ने हाल में शरद यादव को जद (एकी) महासचिव के पद से हटा दिया था। उन्हें राज्यसभा में संसदीय दल के नेता पद से भी हटा दिया गया।

शरद यादव बिहार की अपनी यात्रा से दिल्ली लौट आए हैं और अपने समर्थक नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। यादव के करीबी और हाल में पार्टी से निष्कासित किए गए गुजरात इकाई के पूर्व महासचिव अरुण श्रीवास्तव के अनुसार शरद यादव के धड़े को 14 राज्य इकाइयों के अध्यक्षों का समर्थन प्राप्त है। श्रीवास्तव ने जद (एकी) की पहचान बिहार तक सीमित होने के नीतीश कुमार के बयान को खारिज करते हुए कहा कि पार्टी की हमेशा से राष्ट्रीय स्तर पर पहचान रही है। नीतीश कुमार ने अपने राजनीतिक दल समता पार्टी का जद (एकी) में विलय किया, तो उस समय यादव पार्टी प्रमुख थे। श्रीवास्तव ने कहा कि नीतीश कुमार ने खुद कहा है कि पार्टी का अस्तित्व बिहार से बाहर नहीं है। ऐसे में उनको बिहार के लिए नई पार्टी का गठन करना चाहिए। उनको जद (एकी) पर कब्जा करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, जिसकी हमेशा से राष्ट्रीय स्तर पर उपस्थिति रही है।

नीतीश कुमार ने 19 अगस्त को पटना में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में शरद यादव पार्टी पर अपना दावा जता सकते हैं, जिससे जद (एकी) में एक और टूट हो सकती है। सामाजिक विचारधारा वाले जनता दल में विलय और विघटन का पुराना इतिहास रहा है। जद (एकी) के दो राज्यसभा सांसद अली अनवर अंसारी और वीरेंद्र कुमार भी नीतीश कुमार के भाजपा के साथ जाने के फैसले से नाराज हैं। दोनों ही सांसदों को शरद यादव का समर्थक माना जा रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग