December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

जहानाबाद का सेनारी नरसंहार कांड में 15 दोषी करार, 34 लोगों की गला रेतकर हुई थी हत्या

इस मामले में 74 लोगों के खिलाफ 2002 में आरोपपत्र दायर किया गया तथा 56 के खिलाफ ट्रायल शुरू किया गया जबकि 18 अन्य फरार थे।

Author जहानाबाद | October 27, 2016 18:17 pm
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

बिहार के जहानाबाद जिला की एक अदालत ने 17 साल पुराने 34 लोगों के सेनारी नरसंहार कांड के 15 आरोपियों को गुरुवार (27 अक्टूबर) को दोषी करार दिया जबकि 23 अन्य को साक्ष्य के अभाव में बरी घोषित कर दिया। अतिरिक्त जिला जज (तृतीय) रंजित कुमार सिंह ने माओवादी कम्युनिस्ट सेंटर द्वारा एक जाति विशेष के उक्त नरसंहार मामले में गुरुवार को 15 आरोपियों को दोषी करार दिया जबकि 23 अन्य को साक्ष्य के अभाव में बरी घोषित किया। इस मामले में अदालत द्वारा आगामी 15 नवंबर को सजा सुनायी जाएगी। जहानाबाद से अलग हुए वर्तमान अरवल जिला के करपी थाना अंतर्गत सेनारी गांव के ठाकुरबाडी के निकट लोगों को इकट्ठा कर एक जाति विशेष के 34 लोगों की 18 मार्च 1999 को गला रेतकर हत्या कर दी गयी थी। इस हमले में सात अन्य व्यक्ति जख्मी हो गए थे।

Video: सेनारी नरसंहार में 17 साल बाद आया फैसला; 15 आरोपी दोषी करार, 23 बरी

इस मामले की सूचक चिंतामणि देवी थीं जिनके पति और पुत्र की हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में पुलिस द्वारा व्यास यादव उर्फ नरेश यादव और 500 अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। इस मामले में 74 लोगों के खिलाफ 2002 में आरोपपत्र दायर किया गया तथा 56 के खिलाफ ट्रायल शुरू किया गया जबकि 18 अन्य फरार थे। बाद में अदालत द्वारा 45 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र गठित किया गया जिनमें दो की मामले की सुनवाई के दौरान मौत हो गयी तथा पांच अन्य लापता हैं। इस मामले में 38 लोगों के खिलाफ अतिरिक्त जिला जज तृतीय की अदालत में ट्रायल चला जिनमें 15 को गुरुवार को दोषी करार दिया गया जबकि 23 अन्य को साक्ष्य के अभाव में बरी घोषित किया गया।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 27, 2016 6:17 pm

सबरंग