ताज़ा खबर
 

बिहार में दोस्‍ती के लिए दिल्‍ली में भाजपा नेताओं से मिल रहे नीतीश कुमार के एक दूत

जेडीयू के एक वरिष्‍ठ नेता इन दिनों दिल्ली में भाजपा नेताओं से मिल रहे हैं। द संडे गार्डियन ने रिपोर्ट दी है कि पेशे से डॉक्‍टर ये नेता दोनों पार्टियों के फिर से साथ आने की संभावनाओं पर काम कर रहे हैं।
रिपोर्ट के अनुसार जेडीयू ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ रुख में नरमी की है। (File Photo)

जेडीयू के एक वरिष्‍ठ नेता इन दिनों दिल्ली में भाजपा नेताओं से मिल रहे हैं। द संडे गार्डियन ने रिपोर्ट दी है कि पेशे से डॉक्‍टर ये नेता दोनों पार्टियों के फिर से साथ आने की संभावनाओं पर काम कर रहे हैं। इन्‍होंने पटना साहिब सीट से आम चुनाव भी लड़ा था। रिपोर्ट के अनुसार जेडीयू ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ रुख में नरमी की है। इससे पहले भी खबर आई थी कि नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी ने दिल्‍ली में औपचारिक मुलाकात के बाद अधिकारियों की गैरमौजूदगी में अकेले बातचीत की थी। बंद कमरे में हुई इस मुलाकात के बाद मोदी जब नीतीश को छोड़ने आए तो दोनों एक-दूसरे का हाथ थामे नजर आए। बता दें कि नीतीश ने बिहार में बाढ़ से हुए नुकसान को लेकर 23 अगस्‍त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद नीतीश कुमार पहले की तुलना में काफी बदले हुए अंदाज में दिखे थे। उनका रुख पीएम मोदी को लेकर नर्म दिखा। खबरों के अनुसार नीतीश ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव से बढ़ रहे मतभेदों के चलते यह कदम उठाया है।

समाजवाद पर भारी परिवारवाद:

इसी बीच भाजपा ने भी नीतीश कुमार और जेडीयू के प्रति गर्मजोशी दिखार्इ है। हाल ही में जब जनसंघ के संस्‍थापक दीनदयाल उपाध्‍याय की जन्‍मशती मनाने के लिए 149 सदस्‍यों की कमिटी बनाई गई थी उसमें नीतीश कुमार के साथ ही जेडीयू के नेता शरद यादव और हरीवंश को भी शामिल किया गया था। हालांकि हाल के दिनों में नीतीश कुमार ने आरएसएस पर जमकर निशाना बोला है। वे देश को आरएसएस मुक्‍त बनाने की बात कर रहे हैं। वहीं दीनदयाल उपाध्‍याय भी आरएसएस प्रचारक थे। अगर राजद से जेडीयू अलग हो जाती है और भाजपा उसके साथ आती है तो विधानसभा में उसकी संख्‍या 123 हो जाएगी। यह जरूरी बहुमत से एक ज्‍यादा होगी।

समाजवादी पार्टी संकट: अखिलेश-शिवपाल की लड़ाई पर भावुक हुए मुलायम; जानिए क्या सोचती है यूपी की जनता:

दिल्‍ली में हुई थी नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार की सीक्रेट मीटिंग? अटकलों को मिली हवा

राजद नेता और सीवान के बाहुबली शहाबुद्दीन के जेल से रिहा होने के बाद नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव के रिश्‍तों में और खटास आ गई। जेल से बाहर आने के बाद शहाबुद्दीन ने बिहार के मुख्‍यमंत्री पर हमला बोला था। उन्‍होंने कहा था कि नीतीश परिस्थितियों के मुख्‍यमंत्री हैं। वे उनके सीएम नहीं है। उनके नेता लालू यादव हैं। लालू यादव ने भी शहाबुद्दीन के बयान का समर्थन किया था। गौरतलब है कि पिछले साल विधानसभा चुनावों से पहले राजद और जेडीयू ने गठबंधन किया था। दोनों पार्टियां भाजपा को हराने के लिए साथ आर्इं थी। कांग्रेस, जेडीयू और आरजेडी ने मिलकर महागठबंधन बनाया, जिसे विधानसभा चुनावों में जीत मिली थी।

दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती समारोह के लिए 149 सदस्यों के कमेटी: मोदी अध्यक्ष, सदस्यों में नीतीश, रामदेव, आडवाणी और वाजपेयी भी

भाजपा और जेडीयू पूर्व में साथी थे। दोनों ने मिलकर नौ साल तक बिहार में सरकार चलाई थी। लेकिन साल 2014 में लोकसभा चुनावों से पहले दोनों के बीच दरार आ गई। जेडीयू नरेंद्र मोदी को पीएम पद का उम्‍मीदवार बनाए जाने के खिलाफ थी। इसके बाद दोनों अलग-अलग हो गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग