ताज़ा खबर
 

बिहार: नौकरी से निकालने पर DM ने खाया दलित महिला के हाथों का बना मिड डे मील, प्रिंसिपल को किया सस्पेंड

महिला के लिए आजीविका का साधन एमडीएम के रसोईये का काम करने से मिलने वाला एक हजार रुपये था।
Author औरंगाबाद | July 27, 2016 19:09 pm
पिछले साल गोपालगंज में भी डीएम राहुल कुमार ने एक स्कूल में पहुंचकर इसी प्रकार विधवा महिला का हाथों का बना मिड डे मील खाया था। (file photo)

बिहार के औरंगाबाद जिलाधिकारी ने एक मिसाल पेश करते हुए दलित विधवा को फिर से मध्याह्न भोजन योजना (एमडीएम) के रसोईया के तौर पर बहाल कर दिया और उसके द्वारा बनाए गए भोजन को बच्चों के साथ खाया। औरंगाबाद के जिलाधिकारी कंवल तनुज ने उक्त स्कूल के प्रधानाध्यापक को निलंबित करने का भी आदेश दिया है, जिसने उक्त दलित विधवा को उनके पति की मौत के बाद रसोईये के पद से हटाया था।

पीडित विधवा उर्मिला कुंवर की शिकायत पर तनुज ने औरंगाबाद जिला के रफीगंज प्रखंड के बतुरा मध्य विद्यालय का मंगलवार को दौरा किया था और विधवा द्वारा तैयार एमडीएम का जमीन पर बच्चों के साथ बैठकर भोजन किया था। जिलाधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मानवता के बोध ने उन्हें उक्त महिला के साथ न्याय के लिए विवश किया। बतुरा मध्य विद्यालय के निलंबित प्रधानाध्यापक के खिलाफ विभागीय जांच जिला शिक्षा पदाधिकारी यदुवंश राम ने शुरू कर दी है और उनके स्थान पर आज नए प्रधानाध्यापक ने उक्त स्कूल में पदभार ग्रहण कर लिया है। महिला के पति का हाल में देहांत हो गया था, जिसके लिए आजीविका का साधन एमडीएम के रसोईये का काम करने से मिलने वाला एक हजार रुपये था और उसके जरिए वह अपने अलावा अपने चार बच्चों का पोषण करती थी। तनुज ने बताया कि उक्त महिला के स्कूल में रसोईये के तौर पर लौट आने से वह खुश हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.