ताज़ा खबर
 

नए साल में नीतीश कुमार का बुर्जुगों को तोहफा, वृद्धों के बनेगा अलग अस्पताल

केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से आईजीआईएमएस में भी कैंसर संस्थान की ​स्थापना की जा रही है जिसके अगले साल शुरू होने की संभावना है।
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

बिहार में जल्द ही बुर्जुगों के इलाज के लिए अलग अस्पताल बनने जा रहा हैं। बुर्जुगों के लिए यह अस्पताल पीएमसीएच पटना मेडिकल कॉलेज में बनेगा जिसमें 30 बेड की व्यवस्था होगी। इसके अलावा यहां पर जांच और उपचार दोनों की व्यवस्था होगी। इसके अलावा ओपीडी को भी यहीं संचालित किया जाएगा। अक्सर अस्पतालों में बुर्जुगों लंबी लाइन या फिर डॉक्टर से मिलने के लिए अपॉइटमेंट लेने में कई बार काफी परेशानी होती है। ऐसे मे बुर्जुगों के लिए एक खास अस्पताल बनने से उन्हें राहत मिलेगी। वहीं सरकार का यह कदम सराहनीय योग्य साबित होगा।

इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से आईजीआईएमएस में भी कैंसर संस्थान की स्थापना की जा रही है जिसके अगले साल शुरू होने की संभावना है। करीब 130 करोड़ की लागत से बनने वाले इस कैंसर संस्थान में इलाज की सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इस संस्थान में चार आॅपरेशन थियेटर होगे। इसके अलावा कीमोथैरेपी, रेडियोथैरेपी और अत्याधुनिक तकनीक से होने वाली सर्जरी भी हो सकेंगी।

वहीं किडनी के मरीजों के लिए सभी जिलों में फ्री डायलिसिस सेवा भी शुरू की जा रही है। फिलहाल यह सुविधा राज्य के 17 जिलों में उपलब्ध है। वहीं बता दें कि यह सुविधा उन्हीं मरीजों का मिलेगी जिनकी वार्षिक आय ढाई लाख से कम है। जबकि अन्य मरीज 1500 से 1800 रूपये में डायलिसिस करवा सकेंगे।

इसी के साथ डायबिटिज के मरीजों के लिए जांच केंद्रों की भी व्यवस्था की जा रही है। इन दोनों बीमारियों में हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने यह कदम उठाए हैं। वहीं पटना में नए साल में 950 बेड का अस्पताल भी शुरू हो जाएगा। अभी यह अस्पताल आयुष भवन में चल रहा है जिसमें 120 बेड की व्यवस्था है। हालांकि बाकी निर्माण कार्य जारी है। इसके अलावा एम्स में नए निदेशक के साथ 105 डॉक्टरों की नियुक्ति भी की जाएगी।

वीडियो: पप्‍पू यादव ने किया नीतीश कुमार का चरित्रहनन, कहा- कैशलेस का समर्थन करते हैं और खुद पैसे देकर मनसुख, नयनसुख लेते हैं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग