ताज़ा खबर
 

बिहार: बैंक में नहीं खुला कभी खाता लेकिन 150 ग्रामीणों के घर पहुंचा डेबिट कार्ड

बिहार के जमुई में बीते डेढ़ महीने में करीब 150 गांववालों के नाम से बैंक के डेबिट कार्ड पहुंचे हैं।
डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करता एक उपभोक्ता। (चित्र का इस्‍तेमाल केवल प्रस्‍तुतिकरण के लिए किया गया है।)

नोटबंदी के बाद देश के अलग—अलग हिस्सों से लूट और चोरी के साथ छापेमारी जैसे मामले सामने आ रहे हैं। लेकिन बिहार के जमुई के एक गांव में बड़ा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जहां गांव के लोगों ने बैंक में खाते ही नहीं खुलवाए और उनके डेबिट कार्ड बनकर उनके घर पहुंच गए। यह मामला जमुई के अचम्भो गांव है।

बताया जा रहा है कि बीते डेढ महीने में करीब डेढ सौ गांववालों के डेबिट कार्ड बनकर उनके घर पहुंच गए। जबकि सभी गांव वालों के मुताबिक उनमें से किसी ने भी बैंक में अपना खाता नहीं खुलवाया है। यह सभी डेबिट कार्ड पंजाब नेशनल बैंक के है जोकि एक खास ग्राहक सेवा के माध्यम से खोले गए हैं। वहीं बैंक के शाखा के प्रबंधक कुदंन कुमार का कहना है कि इस मामले की जांच की जा रही है।

वहीं अचम्भो गांव के लोग अचानक बनकर आए इन डेबिट कार्ड को लेकर हैरान भी और परेशान भी। नोटबंदी के बाद आ रही खबरों को सुनकर यह लोग डरे हुए उन्हें भी अचानक से आए डेबिट कार्ड को लेकर आशंका हो रही है।

एक ग्रामीण चमेली देवी का कहना है कि अचानक से आए इन डेबिट कार्ड पर उन्हें हैरानी है। दूसरी ओर एक और ग्रामीण शुकदेव यादव का यह कहना है कि नोटबंदी के माहौल में दूसरों के फर्जी खाते खोलकर कालाधन जमा करने की साजिश लग रही है। शुकदेव यादव के इस बात का दूसरे गांववालों ने भी समर्थन किया इस मामले गौर करने वाली बात यह है कि इन फर्जी खातों से लेनदेन भी हो चुके हैं।

वीडियो:अब कैश नहीं चेक या अकाउंट में ही आएगी सैलरी; वेतन अध्यादेश पर लगी कैबिनेट की मुहर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग