December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

पेट्रोल, मिट्टी के तेल और रसोई गैस से चलती है यह ‘गोलमाल’ वाली बाइक, लड़के ने कबाड़ के जरिए बनाई

इजहार ने बताया कि उन्होंने इस बाइक को बहुत सस्ते में बनाया है। कबाड़ से 10-15 हजार में पुरानी गाड़ी खरीदी। इसके बाद वेल्डिंग के जरिए कबाड़ से अलग-अलग पार्ट्स खरीदकर इसमें जोड़े।

कबाड़ से खरीदकर बनाई गई बाइक पेट्रोल के अलावा केरोसिन और गैस से भी चलती है। (Photo Source: Facebook)

बिहार के कटिहार जिले के रहने इजहार अली ने जुगाड़ से ऐसी बाइक बनाई है जो पेट्रोल के साथ-साथ केरोसिन और घरेलू गैस (LPG) से भी चलती है। उन्होंने यह बाइक कबाड़ से खरीदी थी, इसके बाद उसको अपने हिसाब से डिजाइन किया। इजहार अली का कहना है कि तेल की बढ़ती की कीमतों को ध्यान में रखते हुए हमने ऐसी गाड़ी बनाई है, जिस पर 6 लोग आराम से सफर कर सकते हैं। हमने इस बाइक को केरोसिन और गैस से भी चलाकर देखा है। तकनीकी सुविधा न होने के चलते हमने बाइक को एलपीजी से जुड़ी चीजें हटा दी है, क्योंकि इससे ब्लास्ट होने के खतरा भी हो सकता है। संसाधन की कमी होने के कारण इसको और बेहतर बनाने में दिक्कत आ रही है। अगर हमें सरकारी सहयोग मिले, तो इस वाहन को और बेहतर बनाया जा सकता है। जिससे पेट्रोल की बढ़ती खपत पर लगाम लगाया जा सकेगा।

इजहार ने बताया कि उन्होंने इस बाइक को बहुत सस्ते में बनाया है। कबाड़ से 10-15 हजार में पुरानी गाड़ी खरीदी। इसके बाद वेल्डिंग के जरिए कबाड़ से अलग-अलग पार्ट्स खरीदकर इसमें जोड़े। आमतौर पर बाइक पर दो लोगों के चलने की इजाजत होती है, जब उसने 6 लोगों के चलने को लेकर पूछा गया तो उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान का प्रचार प्रसार करने के लिए एसडीओ से परमिशन ली है। रसोई गैस व केरोसिन से चलने वाले वाहन से वातावरण कम प्रदूषित होगा और पेट्रोल की खपत भी कम होगी

गौरतलब है कि इससे पहले ब्राजील के रहने वाले रिकार्डो अजेवेडो ने ऐसी बाइक बनाई थी तो पानी से चलती है। यह बाइक एक लीटर पानी में 500 किलोमीटर तक जाती है। इस बाइक से पेट्रोल की बचत तो होती ही है पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुंता है। अजेवेडो इस बाइक को मोटो पॉवर H2O का नाम दिया है। यह बाइक इलेक्ट्रोलिसिस की प्रकिया पर आधारित है। इसका डिजाइन पानी और एक कार की बैटरी से बनाया गया है। बैटरी से इलेक्ट्रिसिटी प्रोड्यूस होती है और पानी से हाइड्रोजन के मॉलिक्यूल्स को अलग कर देती है। एक पाइप के जरिए ये हाइड्रोजन इंजन में जाती है और बाइक को चलने के लिए पावर देती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 14, 2016 10:37 am

सबरंग