ताज़ा खबर
 

बिहार में दो साल के लड़के पर लगा छेड़खानी का आरोप, थानेदार दे रहा सरेंडर करने की धमकी

गांव की महिला ने बच्चे पर शोषण करने और उसकी सोने की चेन छिनने का आरोप लगाया है।
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

2 साल का एक लड़का कितना समझदार होगा यह अंदाजा तो आप उसकी उम्र से ही लगा सकते है। जो बच्चा ठीक से चलना न जानता हो वह बच्चा किसी के साथ छेड़खानी जैसा अपराध कैसे कर सकता है। ऐसा ही एक मामला बिहार के पूर्वी चंपारण में देखने को मिला है जहां पर 2 साल के एक लड़के पर 35 वर्षीय एक महिला के साथ छेड़खानी का आरोप लगा है। यह मामला पताही थाना क्षेत्र का है। इस थाने का इंस्पेक्टर पिछले एक महीने से बच्चे को सरेंडर करने के लिए धमकी दे रहा है। इस बच्चे पर पुलिस ने अनैतिक तस्करी अधिनियम और धारा 379 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

थाने में मुकदमा दर्ज होने के बाद लोग इस बच्चे को अपराधी समझ रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव की महिला ने बच्चे पर शोषण करने और उसकी सोने की चेन छिनने का आरोप लगाया है। महिला ने इस मामले की शिकायत 15 मार्च को पुलिस थाने में दर्ज कराई थी और जबसे ही बच्चे के परिवारवालों पर दवाब बनाया जा रहा है कि बच्चे द्वारा सरेंडर किया जाए। हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार बच्चे के पिता ने कहा कि अब उनका बेटा पुलिस के नाम से ही डर जाता है।

इस मामले की पूरी जानकारी देते हुए बच्चे के पिता ने कहा कि जिस महिला ने उनके बेटे के खिलाफ केस दर्ज कराया है पहले उसके पति और ग्राम प्रधान ने मिलकर उनकी पिटाई की थी। उन्होंने कहा कि इसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई गई लेकिन पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। बच्चे के पिता ने कहा कि बदले की भावना से महिला ने प्रधान के साथ मिलकर मेरे बेटे के खिलाफ थाने में झूठी रिपॉर्ट दर्ज कराई। उन्होंने कहा कि पताही थाने के इंस्पेक्टर कन्हैया प्रसाद उनपर महिला के पति पर दर्ज कराए गए केस को वापस लेने का दवाब बना रहे है। कहीं कोई कार्रवाई न होता देख पीड़ित के पिता ने डीआईजी अनिल किशोर यादव से मदद की गुहार लगाई जिसके बाद उन्होंने सभी आरोपियों की गिरफ्तारी के आदेश दिए। डीआईजी के आदेश देने के बावजूद अभीतक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

देखिए वीडियो - बिहार: मानसिक रूप से बीमार महिला को पति घसीटकर ले गया, अस्पताल ने मुहैया नहीं करवाया स्ट्रेचर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.