ताज़ा खबर
 

हाईकोर्ट की फटकार के बाद मानव श्रृंखला में भागीदारी के लिए मजबूर नहीं करेगी नीतीश सरकार, 3 सैटेलाइट और 40 ड्रोन कैमरों से होगी फोटोग्राफी

सरकारी आदेश में कहा गया है कि सुबह 10:25 बजे इसरो का उपग्रह बिहार के छह जिलों, यानी पटना, वैशाली, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, जहानाबाद और गया से गुजरेगा।
पटना कॉलेज के छात्र शराबबंदी के समर्थन में 20 जनवरी को मानव श्रृंखला बनाते हुए। (फोटो- PTI)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अतिमहत्वाकांक्षी मानव श्रृंखला पर हाईकोर्ट से फटकार मिलने के बाद राज्य सरकार की तरफ से कहा गया है कि इसमें स्कूली बच्चों और अन्य लोगों का शामिल होना अनिवार्य नहीं है। राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने आज (20 जनवरी को) पटना में पत्रकारों से बात करते हुए जानकारी दी कि इस श्रृंखला में लोगों का शामिल होना जरूरी नहीं है। यह ऐच्छिक है और जिन्हें इच्छा हो वही शराबबंदी के समर्थन में बनाई जा रही इस मानव श्रृंखला में शामिल हों। मुख्य सचिव ने कहा कि लोगों को जबरन मानव श्रृंखला में शामिल होने को लेकर किसी तरह का दबाव नहीं बनाया गया है।

सरकार की तरफ से कहा गया है कि शनिवार को आयोजित होने वाली इस श्रृंखला के 11,292 किलोमीटर लंबी होने की संभावना है जिसमें लगभग दो से ढाई करोड़ लोग शामिल होंगे। मुख्य सचिव ने कहा कि आयोजन बड़ा है, ऐसे में इसकी शुरुआत से लेकर अंत तक हर पहलू पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक एक-एक व्यक्ति घर वापस न लौट जाय तक तक पूरे राज्य में सतर्कता बरती जाएगी। उन्होंने बताया कि इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को आदेश दिए जा चुके हैं।

बोधगया में महाबोधि मंदिर के बाहर नशाबंदी के समर्थन में मानव श्रृंखला बनाने का अभ्यास करते हुए। (फोटो- PTI) बोधगया में महाबोधि मंदिर के बाहर नशाबंदी के समर्थन में मानव श्रृंखला बनाने का अभ्यास करते हुए। (फोटो- PTI)

बिहार सरकार ने दुनिया की इस संभावित सबसे बड़ी मानव श्रृंखला की तस्वीर उतारने के लिए खास तैयारियां की हैं। सरकार ने इसके लिए एक विदेशी सैटेलाइट समेत कुल तीन सैटेलाइट की सेवा ली है। इन उपग्रहों की मदद से 6 जिलों में फोटोग्राफी करायी जाएगी। सरकारी आदेश में कहा गया है कि सुबह 10:25 बजे इसरो का उपग्रह बिहार के छह जिलों, यानी पटना, वैशाली, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, जहानाबाद और गया से गुजरेगा।

जिन जिलों से इसरो का उपग्रह गुजरेगा वहां के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वो सुबह 9 बजे से दिन के 10:40 बजे के बीच मानव श्रृंखला बनाकर तैयार रहैं। इसके बाद इंटरनेशनल सैटेलाइट दोपहर सवा बारह बजे से एक बजे के बीच बिहार के ऊपर से गुजरेगा और मानव श्रृंखला की फोटोग्राफी करेगा। पटना में मानव श्रृंखला की सुरक्षा के लिए 2000 जवानों को तैनात किया गया है। इसके अलावा ऊंची इमारतों पर भी पुलिस के जवानों की तैनाती की गई है।

राजधानी पटना में स्कूली बच्चों द्वारा बनाई गई मानव श्रृंखला। (फोटो-PTI) राजधानी पटना में स्कूली बच्चों द्वारा बनाई गई मानव श्रृंखला। (फोटो-PTI)

इस दिन सभी सरकारी स्कूलों के बच्चे, सरकारी कर्मचारी और अधिकारी, आंगनवाड़ी सेविका-सहायिका समेत अन्य कर्मी श्रृंखला में शामिल होंगे। राज्यभर की सड़कों पर सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक ट्रैफिक बंद रहेगा। इस इवेंट को कवर करने और उसकी तस्वीर लेने के लिए तीन सैटेलाइट (इनमें से एक विदेशी और दो देशी) चार एयरक्राफ्ट, दो हेलिकॉप्टर और 40 ड्रोन की सेवा ली जा रही है।

वीडियो देखिए- बिहार: न्यायिक सेवा भर्ती में 50% आरक्षण दिए जाने को मंज़ूरी, कैबिनेट ने लिया फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग