ताज़ा खबर
 

जिस जेडीयू नेता ने दिया था तेजस्वी को 4 दिन का अल्टीमेटम, 6 दिन बाद बयान से पलटे, बोले- महागठबंधन बचाना हमारा धर्म

तेजस्वी यादव के पिता और राजद अध्यक्ष लालू यादव ने दो टूक कहा कि तेजस्वी पद से इस्तीफा नहीं देंगे।
बिहार में तेजस्वी यादव के इस्तीफे पर महागठबंधन में मचे घमासान पर जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू)के वरिष्ठ नेता रमई राम अपने बयान से पलट गए हैं।

बिहार में तेजस्वी यादव के इस्तीफे पर महागठबंधन में मचे घमासान पर जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के वरिष्ठ नेता रमई राम अपने बयान से पलट गए हैं। रमई ने कहा कि उन्होंने कभी भी आरजेडी या तेजस्वी यादव को चार दिन का अल्टीमेटम नहीं दिया। उन्होंने कहा कि महागठबंधन बचाना उनका धर्म है। रमई राम का यह बयान सोमवार (17 जुलाई) को राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से मुलाकात के बाद आया है। रमई राम ने कहा कि उन्होंने पिछले मंगलवार (11 जुलाई) को राष्ट्रीय जनता दल को चार दिनों के अंदर सफाई देने की बात कही थी। बता दें कि जनता दल यूनाइटेड नेता ने पिछले मंगलवार को पार्टी नेताओं की बैठक के बाद अल्टीमेटम देते हुए कहा था कि राजद को बिंदुवार चार दिनों के अंदर सफाई देनी चाहिए। इसके बाद राजद और जेडीयू के विधायकों और नेताओं के बीच जुबानी जंग और तेज हो गई थी।

बता दें कि दोनों दलों के बीच तब खाई और गहरी हो गई जब 15 जुलाई को जब एक सरकारी समारोह में उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव नहीं पहुंचे। तय कार्यक्रम के मुताबिक तेजस्वी यादव को आना था लेकिन वो कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बगल में उनके लिए बैठने की व्यवस्था की गई थी लेकिन जब वो नहीं पहुंचे तो सीएम की मौजूदगी में ही अधिकारियों ने पहले उनका नेम प्लेट ढक दिया फिर बाद में उसे हटा लिया गया था।

इस से पहले तेजस्वी यादव के पिता और राजद अध्यक्ष लालू यादव ने दो टूक कहा कि तेजस्वी पद से इस्तीफा नहीं देंगे। उन्होंने साफ किया कि एफआईआर तेजस्वी के इस्तीफे का समुचित कारण नहीं हो सकता है। लालू यादव ने उन खबरों की भी जोरदार तरीके से खंडन किया है, जिसमें शुक्रवार (14 जुलाई) को कहा जा रहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बिहार में गतिरोध खत्म करने के लिए नीतीश कुमार और लालू यादव से बातचीत की है। इसके साथ ही लालू ने कहा कि वो गठबंधन पर कोई आंच नहीं आने देंगे।

इस बीच, जनता दल (युनाइटेड) के विधायक श्याम बहादुर सिंह ने गठबंधन में मचे घमासान को सोमवार (17 जुलाई) को और हवा दे दी। उन्होंने कहा कि जद (यू) को अब गठबंधन तोड़ देना चाहिए। पटना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, “भ्रष्टाचार मामले में फंसे तेजस्वी यादव को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए। यदि वह इस्तीफा नहीं देते हैं तो उन्हें बर्खास्त कर देना चाहिए और गठबंधन तोड़ देना चाहिए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग