ताज़ा खबर
 

बिहार पुलिस का अमानवीय चेहरा उजागर, लाश के गले में फंदा डालकर घसीटता रहा

घटना बुधवार की है जब स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी कि गंगा में एक लाश बह रही है। सूचना पाने के घंटों देर से मौके पर पहुंची पुलिस न तो एंबुलेंस लेकर आई थी, न ही जीवन रक्षक किसी प्रकार का साधन लेकर पहुंची थी।
लाश को घसीटकर गंगा से निकालते बिहार पुलिस के जवान

बिहार पुलिस का अमानवीय चेहरा उजागर हुआ है। राजधानी पटना से सटे वैशाली जिले में गंगा में डूबे एक व्यक्ति की लाश के गले में फंदा डालकर सैकड़ों मीटर तक पुलिस के जवान घसीटते रहे। ताकि शव को गंगा से बाहर निकाला जा सके। मीडिया में खबर आने के बाद पुलिस अधिकारियों ने दोनों आरोपी जवानों को सस्पेंड कर दिया है। ये घटना बुधवार की है जब स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी कि गंगा में एक लाश बह रही है। सूचना पाने के घंटों देर से मौके पर पहुंची पुलिस न तो एंबुलेंस लेकर आई थी, न ही जीवन रक्षक किसी प्रकार का साधन लेकर पहुंची थी। बाद में दो पुलिसवालों ने गंगा में तैर रहे शव के गले में फंदा डालकर उसे घसीटते हुए अपनी गाड़ी तक ले गए। इस दौरान गांववालों ने उसकी क्लिपिंग बना ली और मोबाइल से फोटो खींच लिए। फोटो वायरल होने के बाद पुलिस की इस अमानवीय हरकत पर स्थानीय लोग भड़क गए।

बाद में वैशाली पुलिस के आला अधिकारियों को मौके पर पहुंचना पड़ा। इसके बाद अधिकारियों ने मामले में कार्रवाई करते हुए दो पुलिसवालों को अमानवीय कृत्य के आरोप में सस्पेंड कर दिया। वैशाली पुलिस की अमानवीयता की यह दूसरी घटना है। कुछ साल पहले भीड़ द्वारा पीटे गए लोगों को गंगा में फेंकने का मामला उजागर हुआ था। उस वक्त भी वैशाली पुलिस की किरकिरी हुई थी। हालांकि, बाद में पुलिस अधिकारियों ने दावा किया कि शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

कुछ दिनों पहले ओडिशा में भी दो अमानवीय घटनाएं सामने आई थी। पहली घटना में दाना मांझी नाम के व्यक्ति एंबुलेंस नहीं मिलने पर अपनी पत्नी के शव को कंधों पर रखकर 12 किलोमीटर तक पैदल चलकर अपने गांव पहुंचा था और दूसरी घटना में एंबुलेंस नहीं मिलने पर एक व्यक्ति के शव के हाथ-पैर तोड़कर गठरी बनाकर परिजनों को सौंपने गया था। इसके बाद देशभर से इस तरह की कई अमानवीय तस्वीरें और घटनाएं उजागर हुई थीं।

Read Also-बिहार: अपने इलाके को शराब मुक्त नहीं कर पाने पर 7 पुलिस अफसर सस्पेंड

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग