January 24, 2017

ताज़ा खबर

 

पश्चिम बंगाल: पंडाल में मां दुर्गा की जगह लगाई ममता बनर्जी की मूर्ति, भड़के लोग

इससे पहले बंगाल से खबर आई थी कि एक गांव में बहुसंख्‍यक हिंदुओं को दुर्गा पूजा की इजाजत नहीं दी जा रही।

बंगाल में लगाई गई ममता बनर्जी की प्रतिमा। (Source: Twitter)

पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखण्‍ड जैसे राज्‍यों में दुर्गा पूजा मनाने की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। पंडालों में मां दुर्गा की प्रतिमाएं सजाई जा रही हैं, मगर एक प्रतिमा को लेकर विवाद की स्थिति बनने लगी है। नादिया जिले के कल्‍याणी उपखंड में स्थित चकदाह शहर में लगे एक पंडाल में मां दुर्गा की जगह मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की मूर्ति लगाई गई है। इसमें ममता अपनी चिर-‍परिचित नीले बॉर्डर वाली सफेद साड़ी में नजर आ रही हैं। उनके हाथ नमस्‍ते की मुद्रा में हैं। फाइबरग्‍लास से बनी ममता की इस प्रतिमा में 10 हाथ अलग से जोड़े गए हैं, जो बतौर मुख्‍यमंत्री उनके द्वारा लागू की गई सरकारी योजनाओं की तरफ इशारा करते हैं। सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने इसपर आपत्ति जताई है। गोपेश दुबे नाम के यूजर लिखते हैं, ”ममता को अब देवी माना जाने लगा है। वे लोग उनकी पूजा कर रहे हैं जिन्‍हें उनका आशीर्वाद चाहिए।” दुर्गा पूजा बंगाल का सबसे बड़ा त्‍योहार है। इस दौरान बंगाल में जगह-जगह मां दुर्गा की पूजा करने के लिए पंडाल लगाए जाते हैं। ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस अप्रैल में हुए चुनावों में बहुमत हासिल कर दोबारा सत्‍ता में आई है। इससे पहले बंगाल से खबर आई थी कि एक गांव में बहुसंख्‍यक हिंदुओं को दुर्गा पूजा की इजाजत नहीं दी जा रही।

जानिए, रिलीज के पहले हफ्ते में एमएस धोनी ने की कितनी कमाई: 

सोशल मीडिया पर भी आलोचना:

खबर थी कि बीरभूम जिले के नलहटी थाने के तहत आने वाले कंगलापहाड़ी गांव में करीब 300 हिंदू परिवार पिछले तीन सालों से प्रशासन से गांव में दुर्गापूजा मनाने की इजाजत मांग रहे हैं, लेकिन उन्हें अनुमति नहीं मिल रही है। लगातार चौथे साल भी अभी तक प्रशासन की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला है।

READ ALSO: सर्जिकल स्ट्राइक: सामने आई और डिटेल, 12-12 की टुकड़ी बनाकर PoK में दाखिल हुए थे सौ कमांडो

रिपोर्ट के अनुसार कंगलापहाड़ी दुर्गा मंदिर कमेटी ने जिला प्रशासन के विभिन्न अधिकारियों से अनुमति मांगी है लेकिन गांव के कुछ मुस्लिम परिवारों की कथित आपत्ति के कारण उन्हें इसकी इजाजत नहीं मिल रही है। गांव में 25 मुस्लिम परिवार रहते हैं। रिपोर्ट के अनुसार प्रशासन कानून-व्यवस्था का हवाला देकर उन्हें अनुमति नहीं देता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 4:07 pm

सबरंग