June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

गुजरात में जो नरेंद्र मोदी नहीं कर पाए वह करने का अमित शाह ने लिया टारगेट

नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भाजपा ने गुजरात में 2002 में 127, 2007 में 117 और 2012 में 115 सीटें जीती हैं।

अमित शाह जो कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष होने के साथ ही गुजरात विधानसभा के सदस्‍य भी हैं, उन्‍होंने 150 सीटें जीतने का लक्ष्‍य रखा है।

गुजरात विधानसभा के लिए चुनाव इस साल के आखिर में होने हैं। 20 साल से राज्‍य की सत्‍ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए इस बार के चुनाव सर्वाधिक संघर्षपूर्ण और प्रतिष्‍ठा से जुड़े हुए हैं। पाटीदार और दलितों के आंदोलनों ने भाजपा नेताओं की नींदें उड़ा रखी हैं। नरेंद्र मोदी के मुख्‍यमंत्री पद छोड़कर पीएम बनने के बाद से भाजपा लगातार राज्‍य में अपनी पकड़ गंवाती जा रही है। बावजूद इसके अमित शाह जो कि भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष होने के साथ ही गुजरात विधानसभा के सदस्‍य भी हैं, उन्‍होंने 150 सीटें जीतने का लक्ष्‍य रखा है। गुजरात विधानसभा में कुल 182 सीटें हैं। लेकिन शाह का लक्ष्‍य भाजपा के लिए काफी मुश्किल भरा है। क्‍योंकि पार्टी यहां पर कभी भी 127 सीट से ज्‍यादा नहीं जीत सकी है और यह सीटें भी तब मिली हैं जब मोदी गुजरात के सीएम थे।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भाजपा ने गुजरात में 2002 में 127, 2007 में 117 और 2012 में 115 सीटें जीती हैं। इन आंकड़ों पर नजर डालने के बाद सामने आता है कि भाजपा ने मोदी की अगुवाई में जीत की हैट्रिक लगाई लेकिन हर चुनाव में उसकी सीटें कम होती चली गई। इसके अलावा भी गुजरात में आज तक कोई पार्टी 150 सीटें नहीं जीत पाई है। इसे ध्‍यान में रखते हुए अमित शाह का लक्ष्‍य कुछ ज्‍यादा ही महत्‍वाकांक्षी लगता है। हालांकि शाह ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

यूपी सहित पांच राज्‍यों के चुनावों के बाद से उनकी सक्रियता अपने घरेलू राज्‍य में बढ़ गई है। पिछले दिनों वे अपनी पत्‍नी और बेटे के साथ विधानसभा भी गए थे। यहां पर उन्‍होंने कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री शंकरसिंह वाघेला से भी मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में अटकलों का दौर है। बता दें कि कांग्रेस में जाने से पहले वाघेला आरएसएस के सदस्‍य थे और वे नरेंद्र मोदी के साथ प्रचारक भी रह चुके हैं।

अमित शाह उम्‍मीद जता रहे हैं कि यूपी विधानसभा चुनावों में 325 सीटें मिलने के चलते गुजरात जो कि भाजपा का गढ़ है वहां पर पार्टी को 150 सीटें मिलेंगी। भाजपा ने उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को भी गुजरात चुनावों के लिए स्टार कैंपेनर बनाने का फैसला किया है। यह बात काफी अहमियत रखती है क्‍योंकि अभी तक गुजरात में केवल मोदी के नाम पर वोट मांगा जाता था। साथ ही मोदी ही यहां प्रचार के मुखिया हुआ करते थे। लेकिन पटेलों के आंदोलन ने तस्‍वीर बदल दी है। पटेल भाजपा के पाले में रहा है लेकिन आरक्षण की मांग पर वह भाजपा सरकार के रवैये से नाराज है। इसके चलते गुजरात में दबदबा बनाए रखने के लिए अमित शाह ने पूरी कमान अपने हाथ में ले ली।

पिछले साल आनंदीबेन पटेल को सीएम पद से हटाने में भी अमित शाह की बड़ी भूमिका थी। इसके बाद ऐन मौके पर उन्‍होंने नितिन पटेल की जगह विजय रुपाणी को मुख्‍यमंत्री पद की कुर्सी पर बैठा दिया। अब यहां पर जातीय और राजनीतिक समीकरणों को साधने का काम भी उन्‍होंने अपने हाथ में ले लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 31, 2017 8:50 pm

  1. B
    bitterhoney
    Mar 31, 2017 at 11:33 pm
    With the blessings of EVM mata BJP can easily win 180 seats.
    Reply
    सबरंग