ताज़ा खबर
 

गुजरात दंगों के दौरान पकड़ा गया था संदिग्ध ISI एजेंट कुरैशी

गुजरात पुलिस ने आज कहा कि मुंबई से दो दिन पहले पकड़े गए आईएसआई के संदिग्ध एजेंट अल्ताफ कुरैशी को वर्ष 2002 में राज्य के राजकोट जिले के धोरजी से सांप्रदायिक दंगों के दौरान पकड़ा गया था।
Author अहमदाबाद | May 6, 2017 04:07 am
गुजरात पुलिस ने आज कहा कि मुंबई से दो दिन पहले पकड़े गए आईएसआई के संदिग्ध एजेंट अल्ताफ कुरैशी को वर्ष 2002 में राज्य के राजकोट जिले के धोरजी से सांप्रदायिक दंगों के दौरान पकड़ा गया था।

गुजरात पुलिस ने आज कहा कि मुंबई से दो दिन पहले पकड़े गए आईएसआई के संदिग्ध एजेंट अल्ताफ कुरैशी को वर्ष 2002 में राज्य के राजकोट जिले के धोरजी से सांप्रदायिक दंगों के दौरान पकड़ा गया था। राजकोट के पुलिस अधीक्षक एंट्रिप सूद ने बताया कि उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के आतंक निरोधक दस्ते ने दक्षिण मुंबई से कुरैशी को गिरफ्तार किया था जिसके बाद राजकोट पुलिस ने गुजरात में उसके संपर्कों की जांच शुरू की। आरोप है कि कुरैशी (37) पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए काम करता है। उसे वर्ष 2002 में उसके मूल स्थान धोरजी से दंगों के मामले में गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया था।
सूद ने कहा, ‘‘पिछले रिकॉर्ड जांचने पर हमें पता चला कि धोरजी में सांप्रदायिक हिंसा की घटना के दौरान हत्या के प्रयास तथा दंगों के मामले में उसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया था और उसे गिरफ्तार भी किया गया था।

कुरैशी का परिवार अभी भी धोरजी में ही रहता है। उन्होंने बताया, ‘‘हमें पता चला कि कुछ वर्ष पहले कुरैशी मुंबई चला गया था। उसकी गिरफ्तारी की जानकारी लगने पर हमने यहां उसके संपर्कों की जांच करने के लिए कई दल बनाए। एटीएस के मुताबिक कुरैशी ने लखनउच्च् स्थित एक अन्य आईएसआई एजेंट आफताब अली के बैंक खाते में पैसा जमा करवाया था। आफताब को तीन मई को उत्तर प्रदेश के फैजाबाद से गिरफ्तार किया गया था। एटीएस के अधिकारियों ने कल बताया कि आफताब से मिली जानकारी के आधार पर उप्र एटीएस ने मुंबई से अल्ताफ और जावेद इकबाल को पकड़ा। ये तीनों पाकिस्तान उच्चायोग के जासूसी घेरे का हिस्सा हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 6, 2017 4:07 am

  1. No Comments.
सबरंग