ताज़ा खबर
 

वेंकैया नायडू ने की बलूचिस्तान व गिलगित मुद्दे पर एकजुटता की अपील

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने मंगलवार कांग्रेस सहित सभी दलों से बलूचिस्तान और गिलगिट जैसे मुद्दों पर एक आवाज में बोलने की अपील की।
Author नई दिल्ली | August 17, 2016 02:15 am
केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने मंगलवार कांग्रेस सहित सभी दलों से बलूचिस्तान और गिलगिट जैसे मुद्दों पर एक आवाज में बोलने की अपील की। यह भी कहा कि सभी को ऐसे बयान देने से बचना चाहिए जो भारत के हितों पर आघात करते हों। उनकी प्रतिक्रिया कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद द्वारा स्वतंत्रता दिवस के भाषण में बलूचिस्तान का मुद्दा उठाने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना के जवाब में आई है।

नायडू ने कहा कि जहां तक अंतरराष्ट्रीय मुद्दों की बात है, भारत को एक आवाज में बोलना चाहिए पर दुर्भाग्य से पार्टी के अंदर भी कांग्रेस एक आवाज में नहीं बोल रही है। सलमान खुर्शीद ने एक बयान दिया, कपिल सिब्बल ने एक बयान दिया जिसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी बयान दिया। नायडू ने कहा, ‘मैं मुख्य विपक्षी दल से केवल अपील करता हूं कि कृपया देश के साथ चलिए। परिणामों को समझने का प्रयास कीजिए। हम सभी को एक आवाज में बोलना चाहिए। हमारा पड़ोसी हमारे देश में लगातार आतंकवाद का सहयोग और वित्त पोषण कर रहा है। इसे ऐसे नहीं चलने देना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि मैं सभी दलों से अपील करता हूं कि ऐसा कोई बयान नहीं दीजिए, जिससे भारत की भावना आहत होती है।

खुर्शीद ने सोमवार मोदी पर आरोप लगाया था कि स्वतंत्रता दिवस के अपने भाषण में बलूचिस्तान का मुद्दा उठाकर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर भारत के मामले को वह कमजोर कर रहे हैं। लेकिन कांग्रेस ने बाद में इस टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया और सरकार से कहा कि वह पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ताओं और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बलूचिस्तान और पीओके में हो रहे अत्याचार के मुद्दे को उठाए।

कश्मीर पर पाकिस्तान के रुख का संज्ञान लेते हुए नायडू ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। भारत सरकार और राज्य सरकार कश्मीर में स्थितियों से निपटने में सक्षम हैं। राज्य में एक निर्वाचित सरकार है। उन्होंने कहा कि वे हमें कश्मीर पर व्याख्यान देने का प्रयास कर रहे हैं इसलिए हमने उन्हें बलूचिस्तान, पीओके और गिलगिट की स्थितियों के बारे में बताया। वे वहां हो रहे मानवाधिकार हनन, जनसंहार और अत्याचार पर अपना ध्यान केंद्रित करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग