ताज़ा खबर
 

खेतान ने की केजरीवाल से मुलाकात, ‘आप’ ने कहा- आशीष ने कभी घोषणा-पत्र की तुलना धार्मिक किताबों से नहीं की

हाल ही में पंजाब के तीन दिवसीय दौरे पर गए केजरीवाल ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी है । हालांकि, उन्होंने खेतान की माफी के वीडियो ट्विटर पर साझा किए ।
Author चंडीगढ़/नई दिल्ली | July 7, 2016 06:52 am
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल। (फाइल फोटो)

आशीष खेतान की ओर से पंजाब में पार्टी के ‘युवा घोषणा-पत्र’ की तुलना कथित तौर पर धार्मिक किताबों से करने के बाद आलोचना से घिरी आम आदमी पार्टी (आप) ने आज कहा कि उन्होंने कभी ऐसी कोई तुलना नहीं की और कुछ ‘भाषाई समस्या’ के कारण लोगों ने उनकी टिप्पणी का ‘‘गलत मतलब’’ निकाल लिया। आप की पंजाब इकाई के संयोजक सुचा सिंह छोटेपुर ने इस मामले में सफाई पेश करते हुए कहा कि खेतान का मकसद किसी समुदाय की धार्मिक भावनाएं आहत करना नहीं था।

छोटेपुर ने कहा, ‘‘हमने भी यह कहते सुना था…..उन्होंने कहा था कि यह (घोषणा-पत्र) उनके लिए गुरू ग्रंथ साहिब और गीता की तरह पवित्र है । लेकिन उन्होंने कभी इसकी तुलना धार्मिक किताबों से नहीं की । उनके कहने का मतलब था कि घोषणा-पत्र उनके लिए पवित्र है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वहां कुछ भाषाई समस्या थी और लोगों ने इसका गलत मतलब निकाल लिया….इस मुद्दे को अब :राजनीतिक पार्टियों की ओर से: गलत रंग दिया जा रहा है ।’’

आप नेता ने कहा कि खेतान को जब अपनी ‘‘गलती का अहसास’’ हुआ तो उन्होंने अपने ‘‘हाथ जोड़कर’’ माफी मांगी और इसलिए उन्हें ‘‘माफ कर देना चाहिए।’’ छोटेपुर ने विरोधियों से अपील की कि वे राज्य के व्यापक हित में इस मुद्दे को भड़काने की कोशिश न करें और उनसे राजनीतिक अखाड़े में मुकाबला करें। पंजाब विधानसभा चुनावों के लिए तैयार किए गए आम आदमी पार्टी (आप) के ‘‘युवा घोषणा-पत्र’’ की तुलना धार्मिक ग्रंथों से करने और इस पर स्वर्ण मंदिर की तस्वीर का इस्तेमाल करने को लेकर चौतरफा आलोचना का सामना कर रहे पार्टी नेता आशीष खेतान ने आज यहां मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की।

‘आप’ के पंजाब मामलों के प्रभारी संजय सिंह और वरिष्ठ नेता आशुतोष भी इस बैठक में मौजूद थे। बहरहाल, पार्टी ने कहा कि इस बैठक का घोषणा-पत्र विवाद से कोई लेना-देना नहीं है। खेतान इस मामले में पहले ही माफी मांग चुके हैं । हालांकि, आज अमृतसर में धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया। संपर्क किए जाने पर पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि यह बैठक ‘‘अनौपचारिक’’ थी।

उन्होंने खेतान की ओर से माफी मांगने के बावजूद मुद्दे को ‘‘सांप्रदायिक’’ रंग देने के लिए विपक्ष की आलोचना भी की। वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘विपक्ष सांप्रदायिक भावनाएं भड़काने की कोशिश कर रहा है । खेतान पहले ही माफी मांग चुके हैं और पार्टी की पंजाब इकाई ने भी माफी मांगी है।’’ हाल ही में पंजाब के तीन दिवसीय दौरे पर गए केजरीवाल ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी है । हालांकि, उन्होंने खेतान की माफी के वीडियो ट्विटर पर साझा किए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.