June 29, 2017

ताज़ा खबर
 

125 किलोमीटर चलने के बाद बाहुबली 2 रखा गया इस तीन साल के टाइगर का नाम, जानिए क्यों नहीं रखा बाहुबली

यह बाघ पन्ना टाइगर रिजर्व से बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व पहुंच गया था। पहले इसका नाम T-71 था।

यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उसे यहां तक पहुंचने में 3-5 महीने का वक्त लगा है। (Photo: Facebook/Sandeep dutta)

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में भी बाहुबली 2 का क्रेज चल रहा है। यह भी अब बाहुबली 2 से अछूता नहीं रहा। इस टाइगर रिजर्व में एक 3 साल के बाघ को 125 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद एक नाम दिया गया। यह नाम है बाहुबली 2। अब सवाल आता है कि फिल्म बाहुबली 2 आने के बाद क्या इसका नाम बाहुबली 2 दिया गया है। दरअसल यह टाइगर रिजर्व कुछ साल पहले ही बाहुबली नाम किसी दूसरे बाघ को दे चुका है। कुछ महीने पहले जब पहली बार बाहुबली 2 को बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के बफर जोन में देखा गया था तब इसने पार्क के अधिकारियों का दिल जीत लिया लिया था, तब इसका नाम T-71 था।

बाहुबली 2 की तस्वीर को जब सोशल मीडिया में अपलोड किया गया तो उसे पन्ना टाइगर रिजर्व के एक प्रवासी बाघ के रूप में पहचाना गया, जहां इसका नाम P213(21) था। इसके बाद यह निष्कर्ष निकाला गया कि बाघ, मध्य प्रदेश में पन्ना से 125 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर बांधवगढ़ तक चला गया। बाघ ने वहां जाने के लिए कौन सा रास्ता अपनाया इसकी जानकारी नहीं है, लेकिन यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उसे यहां तक पहुंचने में 3-5 महीने का वक्त लगा है। बाघ के इसी काम के लिए उसे बाहुबली 2 नाम दिया गया है।

संयोग से बाहुबली भी पन्ना (P212) का एक प्रवासी बाघ था, जो फरवरी 2014 मे भटक गया था। वह रीवा में पाया गया था उसके बाद उसे संजय टाइगर रिजर्व में छोड़ दिया गया था। बाहुबली 2 को उसके सामर्थ्य के लिए यह नाम दिया गया है, जबकि पहले बाघ को बाहुबली नाम उसके बड़े आकार के मुताबिक दिया गया था। यह पहला बाघ था जिसे उसके आकार की वजह से ऐसा नाम दिया गया था। जुलाई 2015 में बाघों की आपसी लड़ाई में बाहुबली की मौत हो गई थी। उस समय बाहुबली की उम्र मात्र 4-5 साल थी। बाहुबली 2 की यात्रा सफल वन्यजीव प्रवास के उदाहरण के रूप में की जा रही है, जिसमें कार्यकर्ता राष्ट्रीय उद्यानों और टाइगर रिजर्व को जोड़ने वाले वन्यजीव गलियारों को बनाए रखने और बचाने की आवश्यकता पर बल देते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on June 20, 2017 2:07 pm

  1. No Comments.
सबरंग