ताज़ा खबर
 

पप्पू यादव को हथकड़ी लगाने वाले 11 पुलिसकर्मी निलंबित

पटना जिला की एक अदालत में गत एक अप्रैल को दो महीने पूर्व विधि व्यवस्था के एक मामले में मधेपुरा से सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को हथकड़ी पहना कर पेश करने के मामले में गुरुवार को 11 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।
Author पटना | April 7, 2017 01:02 am
जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव (पीटीआई फाइल फोटो)

पटना जिला की एक अदालत में गत एक अप्रैल को दो महीने पूर्व विधि व्यवस्था के एक मामले में मधेपुरा से सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को हथकड़ी पहना कर पेश करने के मामले में गुरुवार को 11 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने बताया कि निलंबित किए जाने वाले पुलिसकर्मियों में सहायक निरीक्षक प्रदीप कुमार, सहायक अवर निरीक्षक जमालुद्दीन और नौ सिपाही शामिल हैं। उक्त मामले में गत एक अप्रैल को प्रथम श्रेणी की न्यायिक दंडाधिकारी संगीता कुमारी की अदालत में पप्पू यादव को पेश किए जाने पर दंडाधिकारी ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद पप्पू की जमानत याचिका खारिज करते हुए उन्हें न्यायिक हिरासत में आगामी 13 अप्रैल तक के लिए भेजे जाने का निर्देश दिया था। गत 24 जनवरी को विधि व्यवस्था को लेकर पटना शहर के गांधी मैदान में दर्ज एक मामले में पुलिस ने सांसद पप्पू यादव को गत 27 मार्च की रात्रि में गिरफ्तार किया था। जनअधिकार पार्टी (जैप) के संरक्षक पप्पू यादव अपनी गिरफ्तारी के दिन बिहार कर्मचारी चयन आयोग में प्रश्नपत्र लीक मामले, बिजली दर में बढ़ोतरी सहित अन्य मामलों को लेकर जैप द्वारा गत 27 मार्च को पटना में आयोजित धरना में भाग लिया था और उनके कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन के दौरान पथराव होने से प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था। पप्पू को गत एक अप्रैल को अदालत में पेश किए जाने के लिए पटना स्थित बेउर जेल से कैदियों के वाहन के जरिए हाथ में हथकड़ी लगाए हुए लाया गया और उनकी जमानत की याचिका खारिज होने पर उन्हें फिर से जेल भेज दिया गया था।

4 दिन पहले ही खबर आई थी कि बिहार विधानसभा का घेराव करने के मामले में जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और सांसद पप्पू यादव की जमानत याचिका को पटना सिविल कोर्ट ने खारिज कर दी है। जमानत याचिका खारिज होने के बाद अब सांसद को फिलहाल बेऊर जेल में ही रहना होगा। कोर्ट में सुनवाई के दौरान अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी संगीता रानी ने सांसद को राहत देने से इनकार करते हुए उन्हें जेल में रहने का आदेश दिया था। वहीं, एक अन्य मामले में भी पप्पू यादव को कोर्ट से तगड़ा झटका मिला है। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अष्टम ने उनकी जमानत अर्जी पर सुनवाई के बाद गांधी मैदान थाने से केस डायरी मांगी है। इस मामले में सिविल कोर्ट ने उनकी जमानत अर्जी पर सुनवाई के लिए 6 अप्रैल की तिथि निर्धारित की। साथ ही कोर्ट ने सांसद को हथकड़ी पहनाकर सुनवाई के लिए लाने पर पुलिस को फटकार लगाई। अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी ने कहा कि सांसद को हथकड़ी नहीं पहनाई जा सकती है। कोर्ट में पप्पू यादव खुद ही बहस कर रहे थे। उन्होंने कहा, वे सरकार की नीतियों के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रर्दशन कर रहे थे, तभी पुलिस ने सरकार के इशारे पर कार्यकताओं पर लाठियां बरसाईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग