ताज़ा खबर
 

राजपाट- खेत बचाओ-किसान बचाओ

मुख्यमंत्री शिवराज ने कांग्रेसियों पर ही तोहमत लगा दी कि किसान आंदोलन के बहाने वह जानबूझ कर हिंसक हालात पैदा कर रही है।
Author October 9, 2017 04:57 am
मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान। (ANI Photo)

मंदसौर गोलीकांड के बाद एक बार फिर किसानों को लेकर सियासत गरमा गई है मध्य प्रदेश में। मंगलवार को टीकमगढ़ में कांग्रेसियों ने खेत बचाओ-किसान बचाओ का नारा लगाया। क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित कराना चाहते हैं वे। पुलिस के साथ झड़प भी हो गई। आरोप है कि पुलिस ने किसानों को पहले तो सड़क पर पीटा। फिर थाने की हवालात में नंगा करके पिटाई की। सूबे के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने जांच के आदेश दिए। मुख्यमंत्री ने कांग्रेसियों पर ही तोहमत लगा दी कि किसान आंदोलन के बहाने वह जानबूझ कर हिंसक हालात पैदा कर रही है। जबकि दस अक्तूबर तक सूखाग्रस्त इलाकों का आकलन हो जाएगा। मीडिया में प्रदर्शनकारी किसानों के नंगे बदन फोटो छपे तो सरकार को सांप सूंघ गया।

किसानों की पिटाई के मुद्दे पर कांग्रेस ने भाजपा सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया भोपाल से दिल्ली तक। टीकमगढ़ के जिला कलक्टर अभिजीत अग्रवाल किसानों पर ही तोहमत लगा रहे हैं कि वे खुद नंगे हो गए। पुलिस के हाथों पिटाई के आरोप को भी सिरे से नकारा है। यही भाषा थानेदार की भी है। उन्हें तो किसानों को हिरासत में लिए जाने तक का पता नहीं। उधर विधानसभा में विपक्ष के नेता अजय सिंह ने फरमाया है कि शिवराज चौहान और उनकी सरकार का नजरिया किसानों के प्रति दमनकारी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ ने भी सुर में सुर मिला दिया। रही टीकमगढ़ भाजपा विधायक की बात तो वे किसानों को ही उपद्रवी बता रहे हैं। भाजपाई अब सकते में हैं क्योंकि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी नोटिस जारी कर हफ्ते भर में जवाब मांग लिया है। अब कुछ नहीं सूझ रहा तो सूबे की पुलिस पीड़ित किसानों की जन्मपत्री खंगालने में जुट गई है। किसी का कोई तो आपराधिक इतिहास मिलेगा। जो भी हो, किसानों की पिटाई की इस घटना ने फिर हवा दी है उनके गुस्से को। फसल के लाभकारी दाम नहीं देने की वादाखिलाफी से तो पहले ही त्रस्त थे बेचारे किसान।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग