June 29, 2017

ताज़ा खबर
 

उलटा पड़ा दांव

कांग्रेस के हंगामे से त्रिवेंद्र सिंह रावत कतई नहीं घबराए। वे तो पहले ही बंदोबस्त कर आए थे इस घोटाले की सीबीआइ जांच का दिल्ली जाकर।

Author June 19, 2017 07:23 am
उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत (PTI Photo)

उत्तराखंड विधानसभा के बजट सत्र में कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ गई। त्रिवेंद्र रावत सरकार के पहले बजट सत्र के पहले ही दिन विपक्षी पार्टी ने उधमसिंह नगर के चर्चित राष्ट्रीय राजमार्ग घोटाले को जोर-शोर से उठाया। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की चिट्ठी उछालते नहीं अघा रहे थे कांग्रेसी। गडकरी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को लिखी इस चिट्ठी में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अफसरों को जांच के दायरे से बाहर निकालने का सुझाव दिया था। साथ ही आगाह भी किया था कि अफसरों का मनोबल गिरा तो उत्तराखंड के राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण प्रभावित होगा। बहरहाल कांग्रेस के हंगामे से त्रिवेंद्र सिंह रावत कतई नहीं घबराए। वे तो पहले ही बंदोबस्त कर आए थे इस घोटाले की सीबीआइ जांच का दिल्ली जाकर। अमित शाह, राजनाथ सिंह और अरुण जेटली सबको दो टूक कह दिया था कि चुनाव में किए सीबीआइ जांच के वादे से पीछे कतई नहीं हटेंगे वे। सो, विधानसभा सत्र की समाप्ति से एक दिन पहले मुख्यमंत्री ने सबको चौंका दिया। घोटाले की सीबीआइ जांच की मंजूरी की चिट्ठी सदन में रखी तो अति उत्साही दिख रहे कांग्रेसी विधायकों के चेहरे लटक गए।

इस एक कदम से ही त्रिवेंद्र रावत ने अपना कद तो बढ़ा ही लिया। कुशल प्रशासक और ईमानदार नेता की छवि भी उभारी। यह घोटाला हरीश रावत सरकार के वक्त हुआ था। बेशक घोटाले से जुड़े रहे तबके कुछ कांग्रेसी नेता अब भाजपाई हैं। त्रिवेंद्र रावत इसकी परवाह क्यों करते? उन्होंने तो अपने खास माने जाने वाले एक पीसीएस अधिकारी की भी कोई चिंता नहीं की। सीबीआइ जांच से निलंबित चल रहे इस अफसर की मुश्किल और बढ़ेगी। हरीश रावत तो मुश्किल में फंस ही सकते हैं। इंदिरा हृदेश ने सदन में इस घोटाले की सीबीआइ जांच का वादा पूरा करने के बहाने त्रिवेंद्र रावत सरकार को कठघरे में खड़ा करना चाहा था। पर उन्हीं की पार्टी के हरीश रावत खेमे के विधायक सदन की अपनी नेता को कोस रहे थे। एक तो त्रिवेंद्र रावत केंद्र से अपनी बात मनवा कर वैसे ही बम बम थे, ऊपर से कांग्रेस के विधायकों की फूट ने उनका मनोबल और बढ़ा दिया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on June 19, 2017 7:22 am

  1. No Comments.
सबरंग