ताज़ा खबर
 

बदलते मौसम में पहनें वही जो फबे आप पर

गरमी के मौसम में बहुत ज्यादा पसीना निकलना है। ऐसे में अगर आपके कपड़े बहुत ज्यादा कसे होंगे, तो वे आपके शरीर से चिपक जाएंगे, जिसकी वजह से गरमी और ज्यादा लगेगी।
Author May 14, 2017 05:32 am
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

राजलक्ष्मी त्रिपाठी

मौ सम बदलने के साथ खान-पान और रहन-सहन में बदलाव के साथ-साथ फैशन में भी बदलाव आता है। भले ही आपके पास कम कपड़े हों, लेकिन जो हों वे मौसम और फैशन के अनुकूल हों, यह जरूरी है। खुद को फैशन के नए चलन के अनुसार सजाने-संवारने से न केवल आपकी खूबसूरती में इजाफा होता है, वरन इससे आपके आत्मविश्वास में भी बढ़ोतरी होती है। जब तक आप किसी परिधान को पहन कर सुकून न महसूस करें तब तक आप खूबसूरत भी नहीं लग सकते। जरूरी है कि आप तनाव में न रहें। इसलिए आवश्यक है कि आप गरमी के दिनों में जिस भी परिधान का चयन करें वह सिंथेटिक की बजाय सूती हो। इस मौसम के लिए हल्के रंगों के परिधान ज्यादा उपयुक्त रहते हैं। गरमी के लिए फ्लोरल प्रिंट कॉटन स्कर्ट, रैपरॉन, ढीले-ढाले प्लाजो, पटियाला सलवार के साथ ढीली-ढाली कुर्ती को अपने वॉर्डरोब का हिस्सा बनाएं तो बेहतर होगा।

गरमी के मौसम में बहुत ज्यादा पसीना निकलना है। ऐसे में अगर आपके कपड़े बहुत ज्यादा कसे होंगे, तो वे आपके शरीर से चिपक जाएंगे, जिसकी वजह से गरमी और ज्यादा लगेगी। कसी हुई जींस और टी-शर्ट इस मौसम के लिए उपयुक्त नहीं हैं। इस समय के लिए नी-लेंथ स्कर्ट, मैक्सी ड्रेस, घेरेवाली लांग स्कर्ट आदि पहनें, इसे पहन कर आप फैशनपरस्त लगने के साथ-साथ आराम भी महसूस करेंगी। आप चाहें तो अपने लिए ढीले-ढाले प्लाजो के साथ कॉटन की स्लीव-लेस छोटी कुर्ती या शर्ट भी पहन सकती हैं। साथ में रंग-बिरंगा स्टोल भी रखें, यह आपको फैशनपरस्त बनाने के साथ धूप से बचाने में भी मददगार साबित होगा। गरमी में इनरवियर का चयन सावधानी से करना चाहिए। हमेशा सूती और अच्छी गुणवत्ता के इनरवियर का चयन करना चाहिए। खराब, सिंथेटिक या पैड वाले इनरवियर से त्वचा संबंधी संक्रमण भी हो सकता है।

ग्रीष्म ऋतु में खुद को ठंडा रखने के लिए कपड़ों की बुनावट और बनावट का ध्यान रखना जरूरी होता है। पॉलिस्टर, टेरीकॉट, रेयॉन जैसे सिंथेटिक कपड़ों की बजाय लिनेन, सूती, शिफॉन जैसे हल्के फैब्रिक बेहतर होते हैं, क्योंकि ये पसीना सोखने वाले होते हैं, जिसकी वजह से इन्हें पहनने पर गरमी नहीं लगती है। डेनिम की जींस की बजाय लिनेन की पजामी, छोटी कुर्ती भी आपको फैशनपरस्त बनाती है। जिसे भारी कढ़ाई वाले कपड़े और जेवर पहनने का शौक है, उसे गरमी के दिनों में इससे परहेज करना चाहिए। इस मौसम में बहुत ज्यादा भारी कपड़े और जेवर पहनने से न केवल गरमी ज्यादा लगती है, बल्कि त्वचा के संक्रमण का भी खतरा रहता है। गरमी के मौसम के लिए अपने वॉर्डरोब में हल्के परिधानों के साथ हल्की ज्वेलरी को शामिल किया जा सकता है। हां, शोख रंगों के चुनाव में कोई दिक्कत नहीं है। गरमी के मौसम में धूप सिर पर सीधी और शरीर के खुले हिस्सों पर पड़ती है, जिसकी वजह से तबीयत खराब होने का खतरा रहता है। इससे बचने के लिए हमेशा अपने साथ हल्का हैट और सूती स्कॉर्फ या स्टोल ओढ़ना-पहनना अच्छा रहता है। इसके इस्तेमाल से आप फैशनपरस्त और खूबसूरत भी लगेंगी। आंखों को धूप से बचाने के बड़े साइज का सनग्लास आरामदायक होता है। गरमी के मौसम में पहनने वाले परिधान जितने ज्यादा हल्के होंगे, गरमी उतनी ही कम लगेगी। गरमी से बचने के लिए और खुद को फैशनपरस्त दिखाने के लिए ज्यादा तहों वाले कपड़े पहनने से बचें। इन्हें पहनना गरमी को बुलावा देना है। ढीली सलवार और प्लाजो के साथ सूती की कुर्ती और टॉप भी गरमी के पहनावे हैं।

आधुनिक परिधानों का बोलबाला

पिछले साल साठ-सत्तर के दशक के परंपरागत परिधानों की भरमार थी। इस साल परंपरागत परिधानों के साथ-साथ कुछ उत्तेजक और आधुनिक परिधान भी फैशन ट्रेंड में हैं। फैशन के साथ चलने के लिए आप कुछ इरोटिक और आधुनिक परिधानों को भी जगह दे सकती हैं। जिन्हें आप किसी खास अवसर पर पहन कर पार्टी की शान बन सकें। लेकिन इन परिधानों का चयन मौसम के अनुकूल करना चाहिए। चटख रंगों की की मोटी-पतली, आड़ी-तिरछी, सीधी धारियों के कपड़ों का चयन किया जा सकता है। आप चाहें तो अपने वॉर्डरोब में विभिन्न ज्यामितीय शैली के कपड़ों को भी शामिल कर सकती हैं। स्कर्ट, प्लाजो, मैक्सी ड्रेस आदि का चयन किया जा सकता है।  अपने लिए परिधान का चयन करते समय उसके कटाव और डिजाइन का खास ख्याल रखना जरूरी है। फैशन की दौड़ में अपने ऐसी चीजें शामिल न करें, जो आप पर न जंचने वाली हों। लंबाई कम है तो खड़ी धारियों वाले कपड़े पहनें।

हल्का रंग सदाबहार
अगर आप अपने वॉर्डरोब को बदल रही हैं, तो फिर उसमें चटख रंगों के परिधानों के साथ-साथ हल्के रंगों को भी शामिल करें। इन रंगों का फैशन कभी भी कम नहीं होता है। हल्का नीला, हल्का पीला, हल्का गुलाबी और सफेद रंग का चयन गरमी के अनुकूल है। आसमानी रंग की स्कर्ट के साथ नीले रंग की धारीदार टॉप बेहद अच्छी लगती है। नियोन और पेस्टल शेड सदाबहार हैं। इन्हें किसी भी मौके पर धड़ल्ले से पहना जा सकता है। हल्का रंग गरिमा को बढ़ाने के साथ-साथ आंखों को भी सुकून देते हैं।

चटकीलापन
फैशन में कब बदलाव आ जाए, कुछ पता नहीं। इसलिए अपने वॉर्डरोब को हल्के और नियॉन कलर से ही न भर लें, उसमें चटकीले रंगों को भी शामिल करना चाहिए। लेकिन चटकीले रंगों को शामिल करते समय इस बात का ध्यान रखें कि उसमें सॉलिड के साथ-साथ फ्लोरोसेंट का भी मिश्रण हो। फ्लोरोसेंट स्कॉर्फ और स्टोल से आप अपने सादे से परिधान को भी खास बना सकती हैं। गरमी के मौसम में हरा रंग आंखों को सुकून देता है। यह न केवल प्रकृति के करीब होने का अहसास दिलाता है, वरन इस रंग के परिधान को पहनकर सुकून सा महसूस होता है। सारे हरे रंग चलन में हैं। चाहे वह सी ग्रीन हो या फिर बॉटल ग्रीन। हरा रंग सबको भाता भी है और लुभाता भी है। चटकीले हरे रंग के छींटदार कुर्ते काली जींस के साथ अच्छा असर दिखाते हैं। १

 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने किया पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट का उद्घाटन; कहा- "गंदगी न फैलाने की शपथ कई लोगों की जिंदगी बचा सकता है"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.