January 16, 2017

ताज़ा खबर

 

राजनीति

कभी बेटा मानने से ही इनकार करने वाले रोहित शेखर को अब बीजेपी का टिकट दिलवाना चाह रहे हैं कांग्रेस नेता एनडी तिवारी

डीएनए रिपोर्ट सामने आने के बाद एक समारोह में एनडी तिवारी ने बेटे रोहित और उज्ज्वला को बेटा और पत्नी माना था और बाद...

भारत के अभिजन

एकपंथवाद इस बात का आग्रह करता है कि वह न केवल शासन में बल्कि धर्म, साहित्य, कलाओं और संस्कृति के सभी क्षेत्रों में अपने...

राजनीतिः चीन का भारत विरोध और सौदेबाजी

वर्षों से भारत कोशिश कर रहा है कि वह परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी)में दाखिल हो जाए।

राजनीतिः भोजपुरी की मांग और हिंदी का भविष्य

हिंदी समेत सारी भारतीय भाषाएं संकट के दौर से गुजर रही हैं। हताशा में लोग यह भविष्यवाणी तक कर देते हैं कि 2050 तक...

विकास के शोर में बदहाल गांव

ग्रामीणों का मानना है कि गांवों में रोजगार भी नहीं है, जिसके जरिए लोग अपने पूरे परिवार का पेट पाल सकें।

क्यों जारी है खुदकुशी की खेती

महाराष्ट्र, तेलंगाना, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक व आंध्र प्रदेश जैसे छह राज्यों में ही 94.1 फीसद कृषक-आत्महत्या के मामले दर्ज किए गए हैं।

समाज सेवा के नाम पर

जिन बीस हजार गैर-सरकारी संगठनों के एफसीआरए लाइसेंस रद्द किए गए हैं उनके कामकाज में कई तरह की गड़बड़ियां पाई गई हैं।

प्रवासियों की सुध लेती विदेश नीति

मोदी सिडनी से लेकर न्यूयार्क और नैरोबी से लेकर दुबई, जिधर भी गए वहां पर रहने वाले भारतीय मूल के लोगों से गर्मजोशी से...

राजनीतिः कितना सुरक्षित है साइबर संसार

यह देखते हुए कि इस समय देश का पूरा फोकस डिजिटल लेन-देन की व्यवस्था बनाने पर है, छोटी घटनाएं भी उपभोक्ता का इस...

राजनीतिः चुनावी मर्यादा का पाठ

कुछ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सुप्रीम कोर्ट ने चुनावी मर्यादा का पाठ पढ़ाया है- धर्म, नस्ल, जाति, समुदाय या भाषा...

राजनीतिः विरोध जताने का क्रूर तरीका

मणिपुर तक जाने वाले दो राष्ट्रीय राजमार्गों को यूनाइटेड नगा कौंसिल ने विगत दो महीने से अवरुद्ध कर रखा है और इसे विरोध जताने...

प्रतीकवाद की कवायद

शिवाजी पर अपना पहला हक जताने वाली शिवसेना को चिंता है तो बस इतनी कि भाजपा उसका ‘अधिकार’ छीन रही है।

वैज्ञानिक प्रगति की कसौटियां

हर साल जनवरी के पहले हफ्ते में भारतीय विज्ञान कांग्रेस अपना वार्षिकोत्सव मनाती है।

निजता में नाहक घुसपैठ

हमारे समाज के तंगनजर व संकुचित सोच रखने वाले लोगों को अपनी सोच व नजर पर नियंत्रण रखना चाहिए।

राजनीतिः आम आदमी के बहाने

आम आदमी कड़ी मेहनत के बाद भी गरीबी की गिरफ्त से बाहर नहीं निकल पाता। पर यह कोई अनिवार्य नियति नहीं है, यह प्रचलित...

रमेश ठाकुर का लेख: हवाई यातायात सुरक्षा के हवाई दावे

खराब मौसम, पायलट की चूक या फिर किसी तकनीकी समस्या से अब तक हवाई हादसों में अनगिनत यात्रियों ने अपनी जान गंवाई है।

ताकि स्वच्छता आदत बन जाए

स्वच्छता लोगों की एक आदत बने, इसके लिए अब राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) आगे आया है।

हादसे जो रोके जा सकते हैं

सबरीमाला में फिर हुए हादसे ने पुन: हमारे प्रशासनिक तंत्र को कठघरे में खड़ा कर दिया है।

सबरंग