December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

जब क्रिकेट के मैदान पर सफलता का जश्न मनाने के अंदाज ने बटोरीं सुर्खियां, तस्वीरों में देखें

Fri December 02 2016, 4:50 pm
  • क्रिकेट के मैदान पर विकेट लेने के बाद या शतक ठोकने के बाद खिलाड़ियों द्वारा जश्न मनाना बहुत ही आम और सामान्य सी घटना है। जब 1877 में पहली बार आधिकारिक तौर पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरूआत हुई थी उसके बहुत सालों बाद तक खिलाड़ी मैदान पर अपनी सफलता का जश्न बहुत ही नॉर्मल तरीके से मनाते थे। किसी खिलाड़ी द्वारा अच्छा प्रदर्शन करने पर ज्यादा से ज्यादा हाथ मिलाकर और ताली बजाकर अभिवादन कर दिया जाता था।

  • उस समय क्रिकेट आज की तरह प्रसिद्ध नहीं था, न ही बहुत लोगों का पसंदीदा गेम था। क्रिकेट में मैदान पर जश्न मनाने का दौर 1980 के दशक से प्रारम्भ हुआ जब वनडे क्रिकेट खेलना शुरू किया गया। 1990 के दशक के दौरान यह खेल का अनिवार्य हिस्सा बन गया। उसके बाद से क्रिकेट के मैदान पर खिलाड़ियों द्वारा सफलता अर्जित करने पर जश्न मनाने के कई अजीबो गरीब वाकये सामने आए हैं। हम आपको क्रिकेट के पांच ऐसे ही सेलिब्रेशन मोमेन्ट के बारे में बता रहे हैं...

  • जब सौरव गांगुली ने लार्ड्स की बैल्कनी से लहराया था अपना टीशर्ट: भारतीय क्रिकेट के सबसे आक्रामक और प्रभावी कप्तानों में से एक सौरव गांगुली ने इंग्लैंड के खिलाफ नेटवेस्ट ट्रॉफी के फाइनल में ऐतिहासिक जीत दर्ज करने के बाद लार्ड्स की बैल्कनी से अपना टी शर्ट हवा में लहराया था। दरअसल, गांगुली ने ऐसा करके इंग्लैंड के आॅलराउंडर एंड्रयू फ्लिंटॉफ को जवाब दिया था। इस सीरीज से पहले जब इंग्लैंड की टीम भारत दौरे पर आई थी तो फ्लिंटॉफ ने मुंबई में हुए आखिरी वनडे मुकाबले में जीत के बाद अपना टी शर्ट हवा में लहराकर जश्न मनाया था। हालांकि, गांगुली ने बाद में लार्ड्स के उस जश्न को ठीक नहीं मानते हुए उसके लिए खेद प्रकट किया था।

  • जब दिनेश रामदीन ने शतक लगाने के बाद विवियन रिचर्ड्स पर साधा था निशाना: वेस्टइंडीज टीम के साल 2012 के इंग्लैंड दौरे के दौरान टेस्ट मैचों में बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग में लगातार खराब प्रदर्शन करने के कारण दिनेश रामदीन को ​विवियन रिचर्ड्स के तीखी आलोचना का शिकार होना पड़ा था। इसी सीरीज में दिनेश रामदीन ने एजबेस्टन टेस्ट मैच में शानदार शतक जड़ा। अपना सैकड़ा पूरा करने के साथ ही दिनेश रामदीन ने हेलमेट उतारा और अपने दाहिने पॉकेट एक कागज निकालकर ड्रेसिंग रूम की तरफ दिखाने लगे। उस कागज पर लिखा हुआ था, 'YEH VIV TALK NAH.', 'विवियन रिचर्ड्स अब बोलो।'

  • जब कैरिबियन खिलाड़ी डेव मोहम्मद ने विकेट लेने के बाद निकाल लिए थे अपने जूते: वेस्टइंडीज के स्पिनर डेव मोहम्मद ने 2009 में स्टैनफोर्ड में एक टी20 मैच के दौरान विकेट लेने के बाद अपने जूते निकाल लिए थे। डेव मोहम्मद अभी भी उस घटना का जिक्र करते हुए कहते हैं कि उनके जश्न मनाने के तरीके को दर्शकों ने काफी पसंद किया था।

  • पाकिस्तान के टेस्ट कप्तान मिस्बाह-उल-हक का लार्ड्स में पुश-अप्स: 2016 में ही इंग्लैंड दौरे पर लार्ड्स में खेले गए पहले टेस्ट मैच में शतक लगाने के बाद मिस्बाह-उल-हक ने 10 पुश-अप्स मारकर जश्न मनाया था। इस पारी के साथ ही मिस्बाह टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाने वाले सबसे अधिक उम्र के बल्लेबाज बन गए थे। पाकिस्तान ने यह टेस्ट मैच जीत लिया था और इसके बाद टीम के सभी खिलाड़ियों ने अपने कप्तान के तर्ज पर 10 पुश-अप्स लगाकर जीत का जश्न मनाया था। इस जश्न के बाद पीसीबी ने अपने खिलाड़ियों से मैदान में इस तरह की हरकत नहीं करने का निर्देश जारी किया था।

  • रवींद्र जडेजा की मैदान पर तलवारबाजी: भारत के आॅलराउंडर रवींद्र जडेजा को क्रिकेट के मैदान पर मौज मस्ती करने वाला क्रिकेटर जाना जाता है। वो भी मैदान पर अपने जश्न मनाने के अनोखे अंदाज के कारण जाने जाते हैं। रवींद्र जडेजा को बल्लेबाजी के दौरान कोई अच्छी पारी खेलने के बाद बल्ले से तलवारबाजी करते हुए देखा जा सकता है। जडेजा ने पहली बार यह जश्न 2014 में इंग्लैंड दौरे के दौरान लार्ड्स टेस्ट मैच में जीत के बाद मनाया था। भारत ने 28 साल बाद लार्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर इंग्लैंड को टेस्ट मैच में हराया था।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

एंटरटेनमेंट की खबरें, फोटोज , वीडियो के लिए हमें फेसबुकं पर फॉलो करें


हर पल अपडेट रहने के लिए JANSATTA APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

सबरंग