ताज़ा खबर
 

बीमारियों का उपचार करने के साथ ही पुण्‍य भी देते हैं ये ‘चमत्‍कारिक’ पेड़

Thu February 18 2016, 2:23 pm
  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    हिंदू धर्म में प्रकृति का विशेष स्थान है। हिंदू धर्म में सारे त्यौहार, स्नान और व्रत पकृति को केंद्र में रख कर बनाए गये हैं। वर्षों का दर्शन और चिंतन के बाद बड़े-बड़े साधुओं ऋषियों ने पेड़ों, पौधो, फूलों, पत्तियों, नदियों, पहाड़ों को विभिन्न तरीकों से हिंदू धर्म से जोड़ा है। शास्त्रों में कहा गया है कि जो व्यक्ति अपने घर के करीब पीप, नीम, इमली, कैथ, बेल, आंवला और पांच आम के पेड़ लगाता है वो मृत्यु के बाद सीधे स्वर्ग जाता है। वृक्षों के अतिरिक्त पत्तों का भी धर्मशास्त्रों में विशेष उल्लेख है। आज हम जानेंगे उन पत्तों के बारे जिन्हें हिंदू धर्म में विशेष दर्जा प्राप्त है तुलसी : तुलसी का हिंदू धर्म में बहुत मान है। वृहतसंहिता के अनुसार ग्रहण के समय जल में तुलसी का पत्ता रखने से जल के सभी प्रकार के दोष समाप्त हो जाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार रोज तुलसी की पत्तियों को चबाने से संक्रामक बिमारियों से बचा जा सकता है। अथर्ववेद और आयुर्वेद ने तुलसी को चमत्कारिक दूर्लभ गुणों से यूक्त होने के कारण तुलसी न कहकर इसको एक महाऔषघि, संजीवनी बूटी और तुलसी अमृत तक कहा गया है । हिंदू धर्म में भगवान विष्णू की पूजा में तुलसी को विशेष प्रकार से शामिल किया जाता है

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    आम के पत्ते : शुभ कार्यों में आम के पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है। मंडप, कलश बनाने, घर के द्वार को शुभ करने के लिए आम के पत्ते लगायो जाते हैं। घर के मुख्य द्वार पर आम की पत्तियां लटकाने से घर में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के प्रवेश करने के साथ ही सकारात्मक ऊर्जा घर में आती है। आम के पेड़ की लकड़ियों का उपयोग समिधा के रूप में वैदिक काल से ही किया जा रहा है। माना जाता है कि आम की लकड़ी, घी, हवन सामग्री आदि के हवन में प्रयोग से वातावरण में सकारात्मकता बढ़ती है। आम की पत्तियां ग्लूकोज सोखने की आंत की क्षमता घटाती है। इससे खून में शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। आम की पत्तियां सुखाकर पाउडर बना लें। खाने से 1 घंटे पहले पानी में आधा चम्मच घोलकर पीएं।

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    शुभ कार्यो में केले के पौधे का मंडप और तोरण बनाया जाता है। (Source: Express Archives)

  • Betel Leaves, betel leaves uses, betel leaves uses for skin, betel leaf benefits for skin, how to use betel leaves for skin, paan ke patte, beauty benefits of betel leaves, paan leaves, beauty tips in hindi, acne remedies, glowing skin, lifestyle news in hindi, jansatta

    चेहरे पर दाग-मुहांसों की समस्या को पान के पत्तों की मदद से दूर किया जा सकता है।

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    बेल का पत्ता : हिन्दू धर्म में बेल के पत्ते को भगवान शिव को चढ़ाया जाता है। बेल की तासीर बेहद ठंडी होती है। गर्मी के दिनों में इसके फल की शरबत बनाकर पीने से बेहद लाभ होता है। यह शरबत कुपचन, आंखों की रोशनी में कमी, पेट में कीड़े और लू लगने जैसी समस्याओं से निजात पाने के लिए उत्तम है। आयुर्वेद के अनुसार नीम और तुलसी की पत्तियों की गोली बनाकर खाने से पेट के रोगों से मुक्ति मिल जाती है। बेल के पत्तों को पानी में पीसकर माथे पर लेप करने से दिमाग की गर्मी शांत मिलती है। साथ ही नींद भी बेहतर आती है।

  • तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    कढ़ी पत्ता : कढ़ी पत्ता अक्सर कढ़ी में डलता है। इसके खाने में जायका बढ़ जाता है। यह पत्ता बेहद खुशबूदार होता है। इसको खाने से बाल काले और मजबूत रहते हैं। इसके पत्ते कुछ-कुछ देखने में नीम की तरह होते है। कई जगहों पर इसे काला नीम भी कहा जाता है। । कढ़ी पत्ता बालों को बेहतर बनाता है इसे खाने से बाल लंबे और काले हो जाते हैं। डायबिटीज पीड़ितों के लिए रोज सुबह खाली पेट 8-10 कढ़ी पत्ते चबाना फायदेमंद है साथ ही पेट संबंधी रोग भी कढ़ी पत्ता खाने से ठीक हो जाते हैं।

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    नीम का पत्ता : पुराने समय में नीम का दातून करने का रिवाज था लेकिन समय के साथ-साथ यह रिवाज समाप्त होता जा रहा है। नीम का पत्ता सभी प्रकार के चर्म रोगों से बचाता है। नीम के पत्ते चबाने से मुंह, दांत और आंत के रोग तो दूर होते ही हैं, साथ ही इसके रस से रक्त भी साफ रहता है। चेहरे पर होने वाले दाने, मुंहासे नीम का पत्ता चबाने से ठीक हो जाते है।

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    तेजपत्ता : सामान्य तौर पर तेज पत्ता सब्जी में मसाले के तौर पर प्रयोग किया जाता है। यह एक बेहद गुणकारी पत्ता है। आयुर्वेद में तेजपत्ते को बेहद गर्म और उत्तेजक माना गया है इसीलिए यह सेक्शुयल पॉवर बढ़ाने में करने में लाभदायक है। यह गठिया रोग और अपच संबंधी पेट के रोगों में भी लाभदायक है। इसके खाने से भूख बढ़ती है। पेशाव की समस्या में भी यह लाभदायक है। तेजपत्ते के चूर्ण मंजन करने पर दांत सफेद होते है।

  • useful tree leaves, neem tree leaves benefit, mango tree leaves benefit, ashok tree, banana leaves, pan leaves, tulsi leaves, curry leaves, तुलसी की पत्तियां, आम की पत्तियां, कढ़ी पत्ता, केले के पत्ते, जामुन के पत्ते, नीम की पत्तियां,तेजपत्ता, बेल का पत्ता, पान का पत्ता

    जामुन की पत्तियां : प्राचीन भारतीय उपमहाद्वीप को पहले जम्बूद्वीप कहा जाता था, क्योंकि यहां जामुन के पेड़ अधिक पाए जाते थे। जामुन का पेड़ पहले हर भारतीय के घर-आंगन में होता था। अब आंगन ही नहीं रहे। आजकल जामुन और बेर के पेड़ को देखना दुर्लभ है। भारत, ब्रिटेन और अमेरिका में हुए कई अध्ययनों में जामुन की पत्ती में मौजूद ‘माइरिलिन’ नाम के यौगिक को खून में शुगर का स्तर घटाने में कारगर पाया गया है। विशेषज्ञ ब्लड शुगर बढ़ने पर सुबह जामुन की 4 से 5 पत्तियां पीसकर पीने की सलाह देते हैं। शुगर काबू में आ जाए तो इसका सेवन बंद कर दें।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

एंटरटेनमेंट की खबरें, फोटोज , वीडियो के लिए हमें फेसबुकं पर फॉलो करें


हर पल अपडेट रहने के लिए JANSATTA APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

  1. No Comments.