PHOTOS: साइना नेहवाल का नाम खेल मंत्रालय ने पद्म भूषण के लिए भेजा

  • बैडमिंटन खिलाड़ी और ओलिंपिक पदक विजेता साइना नेहवाल की ओर से सार्वजनिक रूप से नाराजगी जताए जाने के बाद खेल मंत्रालय ने उनके नाम की सिफारिश पद्म भूषण सम्मान के लिए कर दी है। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि उनके नाम पर विचार किया जाना अब संभव नहीं है। (फोटो: भाषा)

    बैडमिंटन खिलाड़ी और ओलिंपिक पदक विजेता साइना नेहवाल की ओर से सार्वजनिक रूप से नाराजगी जताए जाने के बाद खेल मंत्रालय ने उनके नाम की सिफारिश पद्म भूषण सम्मान के लिए कर दी है। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि उनके नाम पर विचार किया जाना अब संभव नहीं है। (फोटो: भाषा)

  • पद्म सम्मानों के लिए नाम भेजने की अंतिम तारीख 15 सितंबर ही बताई जा रही है। पहले खेल मंत्रालय ने दो बार के ओलिंपिक विजेता सुशील कुमार का नाम ही इस सम्मान के लिए भेजा था, जिसके बाद साइना ने निराशा जताई थी। (फोटो: भाषा)

    पद्म सम्मानों के लिए नाम भेजने की अंतिम तारीख 15 सितंबर ही बताई जा रही है। पहले खेल मंत्रालय ने दो बार के ओलिंपिक विजेता सुशील कुमार का नाम ही इस सम्मान के लिए भेजा था, जिसके बाद साइना ने निराशा जताई थी। (फोटो: भाषा)

  • बैडमिंटन असोसिएशन ऑफ इंडिया (बीएआई) ने पिछले साल अगस्त में पद्म अवॉर्ड के लिए खेल मंत्रालय से साइना नेहवाल के नाम की सिफारिश की थी। (फोटो: भाषा)

    बैडमिंटन असोसिएशन ऑफ इंडिया (बीएआई) ने पिछले साल अगस्त में पद्म अवॉर्ड के लिए खेल मंत्रालय से साइना नेहवाल के नाम की सिफारिश की थी। (फोटो: भाषा)

  •   2010 में पद्म श्री सम्मान हासिल कर चुकीं साइना नेहवाल को जब पता चला कि खेल मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को स्पेशल केस के तौर पर सुशील कुमार का नाम पद्म भूषण अवॉर्ड के लिए भेजा है तो उन्होंने शनिवार को मीडिया में बयान दिया था, 'गाइडलाइंस के मुताबिक दो पद्म अवॉर्ड के बीच में पांच साल का अंतराल होना जरूरी है। इसलिए अगर सुशील कुमार का नाम भेजा जा सकता है तो मेरा क्यों नहीं? मैं पांच साल का अंतराल भी पूरा चुकी हूं। मुझे बेहद बुरा लग रहा है।' (फोटो: भाषा)

    2010 में पद्म श्री सम्मान हासिल कर चुकीं साइना नेहवाल को जब पता चला कि खेल मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को स्पेशल केस के तौर पर सुशील कुमार का नाम पद्म भूषण अवॉर्ड के लिए भेजा है तो उन्होंने शनिवार को मीडिया में बयान दिया था, 'गाइडलाइंस के मुताबिक दो पद्म अवॉर्ड के बीच में पांच साल का अंतराल होना जरूरी है। इसलिए अगर सुशील कुमार का नाम भेजा जा सकता है तो मेरा क्यों नहीं? मैं पांच साल का अंतराल भी पूरा चुकी हूं। मुझे बेहद बुरा लग रहा है।' (फोटो: भाषा)

  • साइना ने कहा कि पिछले साल उनका आवेदन 'पांच साल का अंतर' होने के नियम के आधार पर खारिज कर दिया गया था। उनका कहना है कि सुशील कुमार को 2011 में पद्म श्री दिया गया था, उन पर भी पांच साल के अंतराल वाला नियम लागू होता है लेकिन उनके नाम की सिफारिश कर दी गई। (फोटो: फाइल)

    साइना ने कहा कि पिछले साल उनका आवेदन 'पांच साल का अंतर' होने के नियम के आधार पर खारिज कर दिया गया था। उनका कहना है कि सुशील कुमार को 2011 में पद्म श्री दिया गया था, उन पर भी पांच साल के अंतराल वाला नियम लागू होता है लेकिन उनके नाम की सिफारिश कर दी गई। (फोटो: फाइल)

  • सायना और प्रणय ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप के दूसरे दौर में

    सायना और प्रणय ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप के दूसरे दौर में