ताज़ा खबर
 

डीआरएस पर देखने से मैच दिलचस्प हो जाता : बेली

आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जार्ज बेली ने कहा है कि डीआरएस के होने से उनके खिलाफ पहले वनडे मैच के दौरान पहली गेंद पर भारतीयों की अपील दिलचस्प हो गई होती.
Author पर्थ | January 13, 2016 00:54 am
आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जार्ज बेली।

आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जार्ज बेली ने कहा है कि डीआरएस के होने से उनके खिलाफ पहले वनडे मैच के दौरान पहली गेंद पर भारतीयों की अपील दिलचस्प हो गई होती। वाका की सपाट पिच पर रोहित शर्मा की नाबाद 171 रन की पारी बेकार चली गई क्योंकि आस्ट्रेलिया ने कप्तान स्टीव स्मिथ के 149 और बेली के 112 रन की मदद से पांच वनडे मैचों की शृंखला के पहले मैच में जीत दर्ज की। बेली पहली गेंद पर आउट हो सकते थे क्योंकि बरिंदर सरन की गेंद उनके दस्ताने को छूकर विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के पास पहुंची थी। लेकिन अंपायर इसका अनुमान नहीं लगा पाए।

बेली ने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह थाई गार्ड से लगी थी। इसे डीआरएस पर देखना दिलचस्प होता।’ उन्होंने कहा कि उनकी टीम 310 रन के लक्ष्य को लेकर वास्तव में चिंतित नहीं थी। मेजबान टीम ने आसानी से लक्ष्य हासिल करके पांच विकेट से जीत दर्ज की। बेली ने मैच के बाद कहा, ‘यह चुनौतीपूर्ण स्कोर था लेकिन हमने आखिर तक मैच में बने रहने पर बात की और हम जानते थे कि हमारे पास अच्छे हिटर हैं।’ उन्होंने कहा, ‘यदि रन रेट आठ या नौ पर चला जाता तो स्टीव स्मिथ और मैं इसको लेकर चिंतित नहीं थे। हमने इसकी परवाह नहीं की और इससे हमें अगली गेंद पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिली। हमने अच्छी लय हासिल कर ली।’

बेली ने स्वीकार किया कि हाल में बल्लेबाजी स्टांस में बदलाव से उन्हें मदद मिली। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि इससे मैंने बेहतर स्थिति हासिल कर ली है। और जब से मैंने ऐसा करना शुरू किया मैं अधिक रन बना रहा हूं। मैं गेंद को हिट करने के लिए बेहतर स्थिति में होता हूं। मैंने आइपीएल के अंतिम चरण में धीमे विकेटों पर इसकी शुरुआत कर दी थी।’ उन्होंने कहा, ‘और ससेक्स में मैंने अच्छा प्रदर्शन किया और जब मैं टी20 या वनडे में नहीं खेल रहा था तो वहां मैंने सेकेंड इलेवन की क्रिकेट खेली। मैं यह भी जानता हूं कि इसे जितना अच्छा होना चाहिए यह अभी वैसी नहीं है लेकिन अभी तो यह प्रभावशाली है। इसलिए मैं आगे भी ऐसा करुंगा।’

पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान ने वर्तमान कप्तान स्टीव स्मिथ की जमकर तारीफ की जो भारत के खिलाफ लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘विश्व में अभी इसी उम्र के कुछ बल्लेबाज हैं जिन्हें बल्लेबाजी करते हुए देखने में मजा आता है। ईमानदारी से कहूं तो उसके साथ बल्लेबाजी करना थोड़ा हतोत्साहित करने वाला होता है क्योंकि वह इसे कई बार बेहद आसान बना देता है। लेकिन इसके साथ ही रनों की भूख देखना भी प्रभावशाली होता है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग