June 29, 2017

ताज़ा खबर
 

लालू यादव के मंत्री बेटे तेज प्रताप यादव का बीएसएससी घोटाले में नाम आने पर एनडीए ने नीतीश कुमार से की बर्खास्तगी की मांग

एसआईटी जांच में आयोग के पूर्व सचिव परमेश्वर राम के मोबाइल से कई जानकारी मिली है। एसआइटी ने परमेश्वर राम के मोबाइल का कॉल डिटेल निकाला है।

Author March 18, 2017 18:47 pm
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (पीटीआई फोटो)

बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों में शनिवार राजग में शामिल भाजपा सहित अन्य विपक्षी दलों ने बिहार कर्मचारी चयन आयोग :बीएसएसएसी: के जरिए एएनएम की बहाली में पैरवी करने को लेकर स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव सहित नीतीश कुमार मंत्रिमंडल से तीन मंत्रियों को बर्खास्त किए जाने की मांग की। बिहार विधान परिषद स्थित अपने कक्ष में पत्रकारों से प्रतिपक्ष के नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बिहार कर्मचारी चयन आयोग द्वारा पिछले महीने आयोजित लिपिक संवर्ग की परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक मामले की जांच कर रही।

विशेष जांच टीम :एसआईटी: ने अपनी रिपोर्ट में गिरफ्तार बीएसएसएसी के पूर्व सचिव परमेश्वर राम के मोबाईल फोन से प्राप्त जानकारी का जिक्र किया है जिसमें एएनएम की बहाली में पैरवी करने वालों में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव के ओएसडी शंकर प्रसाद, विधि मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा और सहकारिता मंत्री आलोक मेहता का नाम आया है जिन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाना चाहिए और एनएनएम बहाली मामले की सीबीआई से जांच कराई जाए।

इन लोगों के अलावा एएनएम बहाली के लिए पैरवी करने वालों में पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, जदयू विधायक राम बालक सिंह और भाजपा विधायक सुरेश शर्मा के नाम भी शामिल हैं। सुशील ने कहा कि मीडिया में आई रिपोर्ट में जिस शंकर प्रसाद द्वारा वसंती कुमारी सहित तीन एएनएम अभ्यर्थियों के लिए एसएमएस भेजा गया वे तेज प्रताप के ओएसडी हैं और जिनके विभाग में ही एएनएम की बहाली होनी थी।

उन्होंने कहा कि जहां तक इस मामले में भाजपा विधायक सुरेश शर्मा द्वारा पैरवी किए जाने की बात है तो उनसे पार्टी द्वारा इस संबंध पूछे जाने पर शर्मा ने कहा है कि उन्होंने कोई फोन नहीं किया है फिर भी अगर सरकार चाहती है तो जांच करवा सकती है।

एसआईटी जांच में आयोग के पूर्व सचिव परमेश्वर राम के मोबाइल से कई जानकारी मिली है। एसआइटी ने परमेश्वर राम के मोबाइल का कॉल डिटेल निकाला है। 10 पेज के कॉल डिटेल को एसआइटी ने केस डायरी में अटैच किया है। यह एक महीने का कॉल डिटेल है। हालांकि इससे पेपर लीक से जुड़े किसी मामले का अब तक खुलासा नहीं हुआ है, लेकिन एएनएम बहाली में हुई पैरवी के सबूत एसआइटी के हाथ लगे हैं।

इसमें जो मामले ज्यादा प्रासंगिक या संदिग्ध हैं, सिर्फ उन्हीं की जांच हो रही है। इस एसएमएस की भीड़ में कुछ मैसेज ऐसे भी हैं, जो डीएम को परीक्षा कंडक्ट कराने के लिए पैसे देने से जुड़े सरकारी मैसेज हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पेपर लीक मामले से ध्यान भटकाने के लिए इस एएनएम की बहाली के मामलों को इतना तूल दिया जा रहा है।

देखिए वीडियो - बिहार स्टाफ परीक्षा का पर्चा लीक; पुलिस ने आयोग के सचिव को हिरासत में लिया 

ये वीडियो भी देखिए - बिहार: न्यायिक सेवा भर्ती में 50% आरक्षण दिए जाने को मंज़ूरी, कैबिनेट ने लिया फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 18, 2017 6:45 pm

  1. No Comments.
सबरंग