ताज़ा खबर
 

दिल्ली पुलिस की मदद से BJP करवा रही ऑटो, टैक्सियों की हड़ताल: केजरीवाल

राजधानी दिल्ली में आॅटो और टैक्सियों की हड़ताल बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रही। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि उपराज्यपाल नजीब जंग और दिल्ली पुलिस की मदद से भाजपा दिल्ली को पंगु बनाने पर तुली है।
Author नई दिल्ली | July 28, 2016 00:57 am
केजरीवाल ने BJP पर लगाया ऑटो टैक्सी हड़ताल कराने का आरोप

राजधानी दिल्ली में आॅटो और टैक्सियों की हड़ताल बुधवार को दूसरे दिन भी जारी रही। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि उपराज्यपाल नजीब जंग और दिल्ली पुलिस की मदद से भाजपा दिल्ली को पंगु बनाने पर तुली है। परिवहन मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी भाजपा पर गुंडागर्दी के जरिए हड़ताल को जबरन सफल बनाने की कोशिश करने का आरोप लगाया।

मंगलवार से ऐप आधारित कैब के खिलाफ टैक्सी और आॅटो चालकों की शुरू बेमियादी हड़ताल बुधवार को भी जारी रही और लगभग 85000 आॅटो और 15000 काली-पीली टैक्सियां राजधानी की सड़कों से दूर रहे। नतीजा, कामकाजी दिन होने के कारण लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। सार्वजनिक परिवहन प्रणाली पर दबाव पड़ने के कारण नियमित यात्रियों और शहर में आए अन्य यात्रियों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। सुबह के व्यस्त समय में मेट्रो में भी भारी भीड़ रही।

पटपड़गंज इलाके में रहने वाली रुपम सिंह ने बताया, ‘मेरे श्वसुर बीके पंत अस्पताल में भर्ती हैं, परिवार वालों को सुबह-सुबह वहां पहुंचना था, लेकिन आॅटो नहीं मिलने के कारण काफी परेशानी हुई। कैब वाली टैक्सियों में सस्ते विकल्प उपलब्ध नहीं थे’। इसी तरह की परेशानियां कामकाजी लोगों को भी झेलनी पड़ी, लोग आॅफिस जाने के लिए वैकल्पि साधन तलाशते नजर आए। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर भी कुछ ऐसा ही नजारा था।

दिल्ली सरकार ने बुधवार को भी अपनी बात दुहराई कि हड़ताल भाजपा प्रायोजित है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘भाजपा के गुंडे आॅटो और टैक्सियों के संचालन को रोक रहे हैं। भाजपा दिल्ली को पंगु बना देना चाहती है और इस काम में उप राज्यपाल और दिल्ली पुलिस उसकी भरपूर मदद कर रहे हैं’। परिवहन मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी दिल्ली पुलिस पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि आॅटो और यात्री वाहनों के परिचालन को कथित तौर पर रोकने वाले, ‘भाजपा समर्थित गुंडों के खिलाफ वह कार्रवाई नहीं कर रही है’। दिल्ली सरकार ने मंगलवार को ऐप आधारित कैब के खिलाफ कार्रवाई करने में असमर्थता जताई थी। दिल्ली सरकार का कहना है कि इन पर प्रतिबंध लगाने का फैसला उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता।

आॅटो और टैक्सी (काली-पीली) की बीस यूनियनों की संयुक्त कार्य समिति द्वारा इस हड़ताल का आह्वान किया गया था। प्रदर्शनकारियों ने कहा है कि यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी जब तक कि सरकार ओला और उबर जैसी ऐप आधरित सेवाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करती है। हड़ताल के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने आइएसबीटी और रेलवे स्टेशन से अतिरिक्त तीन सौ बसें चलाई हैं।

भारतीय मजदूर संघ समर्थित दिल्ली आॅटो रिक्शा संघ ने कहा है कि दिल्ली में जारी आॅटो और टैक्सियों की हड़तान खत्म नहीं होगी। संघ के अध्यक्ष राजेंद्र सोनी ने 25 और आॅटो-टैक्सी यूनियनों के समर्थन मिलने का दावा करते हुए केंद्र सरकार से मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है। दिल्ली सरकार पर बेरुखी का अरोप लगाते हुए  सोनी ने कहा कि गुरुवार को वे केंद्रीय परिवहन मंत्री नितीन गडकरी से मिलकर केंद्र सरकार से मामले में हस्तक्षेप करने की मांग करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.