December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

गोवा में भारत का 47वां अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह

पोलैंड के विश्व प्रसिद्ध फिल्मकार आॅद्रे वाजदा की अंतिम फिल्म आफ्टरइमेज के प्रदर्शन के साथ 20 नवंबर से गोवा में भारत के 47वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह (ईफ्फी गोवा) की शुरुआत हो रही है।

Author नई दिल्ली | November 18, 2016 01:19 am

अजित राय
पोलैंड के विश्व प्रसिद्ध फिल्मकार आॅद्रे वाजदा की अंतिम फिल्म आफ्टरइमेज के प्रदर्शन के साथ 20 नवंबर से गोवा में भारत के 47वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह (ईफ्फी गोवा) की शुरुआत हो रही है। यह समारोह 28 नवंबर तक चलेगा। बाहुबली फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार पाने वाले एसएस राजामौली समापन समारोह में मुख्य अतिथि होंगे। सुप्रसिद्ध गायक एसपी बालासुब्रमण्यम को इंडियन फिल्म पसर्नाल्टी आॅफ दि ईयर 2016 सम्मान के लिए चुना गया है। दक्षिण कोरिया के किम जी वुन की ‘दि एज आॅफ शैडोज’ समापन फिल्म होगी। मानद आॅस्कर, पॉम दि ओर सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित आॅद्रे वाजदा का इसी साल 9 अक्तूबर को नब्बे वर्ष की आयु में निधन हुआ था। यह फिल्म बीसवीं सदी के महान चित्रकार व्लादिस्लाव स्ट्रेमिंस्की के जीवन संघर्ष और कला यात्रा पर आधारित है जिन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद कम्युनिस्ट शासन के सामने झुकने से इनकार कर दिया था। समापन फिल्म ‘दि एज आॅफ शैडोज’ ( किम जी वुन)1920 के दशक में जापानी सेना के एक कोरियाई कमांडर और कोरियाई स्वाधीनता संग्राम के प्रमुख क्रांतिकारी की मुठभेड़ के बहाने उस दौर के इतिहास की पड़ताल करती है जब कोरिया पर जापान का कब्जा था। ये दोनों फिल्में पोलैंड और दक्षिण कोरिया से आॅस्कर पुरस्कार के लिए नामांकित हुई हैं।

इस साल ईफ्फी गोवा के लिए 88 देशों से प्राप्त 1082 में से 194 फिल्में प्रदर्शन के लिए चुनी गई हैं। दक्षिण कोरिया फोकस कंट्री होगा। दुनियाभर के युवा फिल्मकारों की पहली फिल्म की नई प्रतियोगिता शुरू की जा रही है जिसकी पुरस्कार राशि रजत मयूर के साथ दस लाख रुपए होगी। अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता खंड में दो भारतीय फिल्मों सहित विश्व सिनेमा से 15 फिल्में चुनी गई हैं। ये फिल्में हैं – जी प्रभा की संस्कृत फिल्म (ईश्ति) मानस मुकुल पॉल की सहज पाथेर गाप्पो। चेक गणराज्य के ईवान पासेर की अध्यक्षता में बनी पांच सदस्यीय जूरी में भारत से केवल नागेश कूकनूर हैं। इस बार शांति, सहिष्णुता और अहिंसा जैसे जीवन मूल्यों पर आधारित किसी एक फिल्म को यूनेस्को-गांधी मेडल दिया जाएगा।

एनएफडीसी द्वारा स्वच्छ भारत फिल्म समारोह मे आई 4346 में से चुनी हुई 20 शार्ट फिल्मों का एक विशेष पैकेज ईफ्फी में दिखाया जाएगा। एशिया की 26 और भारत की 108 फिल्मों का प्रीमियर किया जाएगा। विविध खंडों मे ईफ्फी मे इस बार कुल एक करोड़ रुपए के पुरस्कार दिए जाएंगे। पोलैंड के आॅद्रे वाजदा और ईरानी फिल्मकार अब्बास किरोस्तामी की फिल्मों का विशेष खंड उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए प्रदर्शित किया जाएगा। आँद्रे वाजदा की एशेज एंड डायमंड, मैन आॅफ आयरन तथा द प्रोमिस्ड लैंड और अब्बास किरोस्तामी की टेस्ट आॅफ चेरी, दि विंड विल कैरी अस और शीरीन जैसी फिल्में मील का पत्थर मानी जाती हैं। विश्व के इन दोनों महान फिल्मकारों का अभी हाल ही में निधन हुआ है।

आम जनता के लिए पणजी के आजाद मैदान मे बड़े पर्दे पर कुछ ब्लॉक बस्टर भारतीय फिल्में रोजाना दिखाई जाएंगी जिसमें मराठी की सैराट और नटसम्राट , हिंदी की शोले, बाजीराव मस्तानी, सुलतान और एयरलिफ्ट प्रमुख हैं। ईफ्फी में इस बार विश्व के 21 देशों से आॅस्कर पुरस्कार के लिए नामांकित फिल्मों का पैकेज प्रदर्शित किया जा रहा है। ये वे फिल्में हैं जो इस साल कान बर्लिन वेनिस और टोरंटो जैसे अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में पुरस्कृत- प्रशंसित हो चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 1:17 am

सबरंग