ताज़ा खबर
 

UP: 24 घंटे लगातार हुई बारिश से उफनाई घाघरा नदी, बहाव से टूट गया बांध, गांवों में तबाही

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान कुछ इलाकों में बारिश हुई। उफनाई घाघरा के बहाव से एल्गिन-चरसड़ी बांध टूटने से अनेक गांवों में तबाही का मंजर है और राहत तथा बचाव कार्य के लिए सेना बुला ली गई है।
Author लखनऊ | August 11, 2016 01:09 am

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान कुछ इलाकों में बारिश हुई। उफनाई घाघरा के बहाव से एल्गिन-चरसड़ी बांध टूटने से अनेक गांवों में तबाही का मंजर है और राहत तथा बचाव कार्य के लिए सेना बुला ली गई है। आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य में कुछ स्थानों पर बारिश हुई। कुछ इलाकों में बहुत भारी बारिश भी हुई।

इस अवधि में बरेली में सबसे ज्यादा 14 सेंटीमीटर बारिश रिकार्ड की गयी। इसके अलावा बिलारी (मुरादाबाद) में सात सेंटीमीटर, बहेड़ी (बरेली), रामपुर तथा नवाबपुर (अलीगढ़) में पांच-पांच, खलीलाबाद (संतकबीरनगर), सिधौली, तथा ठाकुरद्वारा (मुरादाबाद) में चार-चार, धौरहरा (लखीमपुर खीरी), लखनऊ, ककरही (सिद्धार्थनगर), नीमसार (सीतापुर) बिसौली (बदायूं) तथा सहारनपुर में तीन-तीन सेंटीमीटर वर्षा रिकार्ड की गयी।

अगले 24 घंटे के दौरान राज्य के अनेक स्थानों पर बारिश होने का अनुमान है। पूर्वी भागों में बारिश का सिलसिला अगले दिन भी जारी रह सकता है। इस बीच, बाराबंकी से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार बाराबंकी और गोण्डा जिले की सीमा पर घाघरा नदी पर बना एल्गिन-चरसड़ी बांध के नदी के तेज बहाव और कटान के चलते जलधारा में समा जाने से कई गांवों में तबाही का मंजर है। गांव में पानी घुस जाने के कारण अनेक लोग अपना घर बार छोड़ कर सुरक्षित स्थान पर पहुंच गए हैं। जिला प्रशासन तथा प्रदेश के आलाधिकारी लगातार हालात पर नजर रखे हुए हैं।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक बाढ़ के बदतर हालात के मद्देनजर राहत और बचाव कार्य के लिये सेना बुला ली गयी है। पानी का बहाव इस कदर तेज है कि बाँध टुकड़ों-टुकड़ों में टूटकर ढह रहा है। पानी के बहाव में लोगों की फसलें तो डूब ही गयी हैं और घर में रखा राशन भी बह गया है। जान बचाने के लिए लोग खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को बेबस हो रहे हैं। कई गांव तो टापू मे तब्दील हो चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.