ताज़ा खबर
 

श्रीनगर एयरपोर्ट पर 6वें दिन विमान सेवा बाधित, स्थिति में अब तक नहीं हुआ सुधार

श्रीनगर हवाई अड्डे पर आज लगातार छठे दिन हवाई यातायात बाधित रहा, जहां खराब दृश्यता के चलते एक भी विमान उड़ान नहीं भर पाया।
Author श्रीनगर | November 22, 2016 14:25 pm

श्रीनगर हवाई अड्डे पर आज लगातार छठे दिन हवाई यातायात बाधित रहा, जहां खराब दृश्यता के चलते एक भी विमान उड़ान नहीं भर पाया। हवाई अड्डे पर आज भी स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण के श्रीनगर हवाई अड्डा निदेशक शरद कुमार ने कहा कि खराब दृश्यता के कारण आज भी विमान संचालन बाधित रहा। शरद कुमार ने कहा कि रनवे पर दृश्यता 800 मीटर थी, जिस कारण आज सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं।

दृश्यता में कोई सुधार नहीं आया है। उन्होंने कहा कि विमानों के रवाना होने और उतरने के लिए 1.3 किमी की दृश्यता की दरकार होती है, लेकिन आज दृश्यता 800 मीटर थी, इसलिए सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया। हवाई अड्डे पर आज लगातार छठे दिन विमान सेवा बाधित रही । हवाई अड्डे पर विमान सेवा गुरूवार दोपहर से ही बाधित है। शुक्रवार को भी यहां हवाई अड्डे पर किसी विमान ने उड़ान नहीं भरी।
शनिवार को विमान सेवा आंशिक रूप से शुरू की गई थी, केवल दो विमान ही हवाई अड्डे पर उतरे और बाद में उन्होंने ही यहां से उड़ान भरी ।
रविवार और सोमवार को भी यहां विमान सेवा पूरी तरह बाधित रही।

वहीं दूसरी ओर  सुबह अलगाववादियों के आहूत बंद के कारण कश्मीर में जनजीवन प्रभावित है और पूरी घाटी में अधिकतर दुकानें बंद हैं । सड़कों पर वाहन नजर नहीं आ रहे हैं। हालांकि, अधिकारियों ने बताया कि सिविल लाइन्स के कुछ इलाकों में कुछ कैब और मिनी बसें चल रही हैं जबकि यहां शहर के बाहरी इलाके में भी कुछ वाहन चल रहे हैं । उन्होंने बताया कि इन इलाकों में कुछ दुकानें भी खुली हुयी हैं।

अधिकारियों ने बताया कि घाटी के अधिकतर जिला मुख्यालयों से बंद की खबरें मिली हैं। घाटी के अन्य जिलों से ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर आने जाने वाली कुछ अंतर-जिला कैब भी सड़कों पर नजर आ रही हैं। शहर के मध्य में स्थित लाल चौक की ओर जाने वाले टीआरसी चौक-बटमालू पर कुछ विक्रेताओं को भी अपने स्टॉल लगा कर सामान बेचते हुये देखा गया है। हालांकि, अधिकारियों ने बताया कि आज लोगों की गतिविधियां कम देखने को मिली। 137 दिनों तक बंद के बाद कश्मीर में पिछले सप्ताह दो दिन छूट के कारण थोड़ी राहत देखने को मिली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.