December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

व्यापार मेले में पहली बार कम करने पड़े टिकटों के दाम

नोटबंदी की वजह से राजधानी में चल रहे विश्व व्यापार मेले में दर्शकों की कमी को देखते हुए मेला आयोजकों ने इस बार टिकट दरों में कटौती कर दी है।

नोटबंदी की वजह से राजधानी में चल रहे विश्व व्यापार मेले में दर्शकों की कमी को देखते हुए मेला आयोजकों ने इस बार टिकट दरों में कटौती कर दी है। व्यापार मेले के 36 साल के इतिहास में यह पहली बार हुआ है, जब मेला आयोजकों ने मेले में आने वालों के लिए टिकटों की दरें घटाई हों। टिकटों की दरों में कटौती का मकसद ज्यादा से ज्यादा दर्शकों को मेले में आने के लिए लुभाना है। मेला शनिवार से आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा। शनिवार को मेले के पांच दिन पूरे हो जाएंगे। शुरू के पांच दिन व्यापारी दर्शकों के लिए रखे गए थे। इन पांच दिनों में मेले में दर्शकों की काफी कम संख्या को देखते हुए टिकटों की दरें घटाने का फैसला लिया गया है।

मेले में 120 रुपए का टिकट अब 100 रुपए और 60 रुपए का टिकट 50 रुपए में मिलेगा। व्यापार मेला जब आम दर्शकों के लिए खोला जाता है, तो पिछले रिकॉर्ड के अनुसार यहां पर एक लाख के करीब दशर्कक आते रहें है। अब यहां पर आम लोगों की संख्या का आंकड़ा शनिवार देर शाम को ही पता लगेगा। मेला आयोजकों का अंदाजा है कि यहा पर आने वाले ज्यादातर दर्शक दिल्ली मेट्रो के जरिए आएंगे, क्योंकि अभी मेट्रो ही पुरानी करंसी लोगों से ले रही है। मेट्रो के जरिए व्यापार मेले में ज्यादा संख्या में दर्शको की आवक को देखते हुए आयोजकों ने मेट्रो के साथ ही आइटीपीओ का गेट नंबर 8 और 8-ए को खोलने का फैसला किया है। यह गेट भी मेला आयोजकों ने पहली बार खोलने का फैसला किया है।

ये दोनों गेट प्रगति मैदान पर मेला आयोजकों की ओर से बनाए गए टिकट केंद्रों के करीब हैं। टिकट केंद्रों से सीधे दर्शक गेट संख्या-आठ में प्रवेश कर सकते हैं। टिकट केंद्र से गेट संख्या आठ तक दोनों तरफ लोहे की फैंसिंग लगाई गई है, जिससे दर्शक सीधे यहां पहुंच सकें। सुबह 10 बजे से दोपहर दो बजे तक इन गेटों से दर्शक जा सकेंगे और दो बजे के बाद यहां से दर्शकों के वापस आने का इंतजाम होगा। देश में आतंकवादी घटनाओं को देखते हुए मेला आयोजकों ने सभी प्रवेश द्वारों पर सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की है। आइटीपीओ के मुख्य सुरक्षा अधिकारी अजय वशिष्ठ ने बताया कि मेले में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को इस बार सुरक्षा के तीन घेरों से होकर गुजरना होगा। मेले के भीतर और सभी द्वारों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इस बार संवेदनशील 300 जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। 25 स्थानों पर टावर लगाए गए हैं। प्रवेश द्वार सहित कई जगहों पर बैग स्कैनर लगाए गए हैं। संवेदनशील जगहों पर कमांडो दस्ते तैनात किए गए हैं। इन्हें ‘क्विक एक्शन टीम’ कहा गया है।

सुरक्षा अधिकारी अजय वशिष्ठ ने बताया कि मेले में कई ऐसी टीमें बनाई गई हैं, जो टिकटों की अवैध बिक्री पर नजर रखेंगी। उन्होंने बताया कि आज ही इस टीम ने दो लोगों को पकड़ा है, जो मेले के पास को रुपए लेकर बेच रहे थे। उन दोनों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया है। छेड़खानी की घटनाओं पर नजर रखने के लिए दिल्ली पुलिस और सिविल डिफेंस की सादी वर्दी में महिलाओं की टीमों पर डयूटी पर लगाया गया है। ये विशेष टीमें इस तरह की घटनाओं पर नजर रखेंगी और यदि कोई भी असमाजिक तत्त्व हाथ आता है, तो उसे फौरन पुलिस के हवाले किया जाएगा। मेला आयोजकों ने लोगों से मेले की टिकटे आॅनलाइन या फिर दिल्ली मेट्रो से लेने की अपील की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 19, 2016 1:14 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग