December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

संसद नहीं चलने दे रही कांग्रेस: वेंकैया नायडू

केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस और उसके सहयोगी संसद की कार्यवाही नहीं चलने देना चाहते। वे नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा से भाग रहे हैं क्योंकि इस निर्णय के बाद देश का गरीब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मसीहा के रूप में देख रहा है।

केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस और उसके सहयोगी संसद की कार्यवाही नहीं चलने देना चाहते। वे नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा से भाग रहे हैं क्योंकि इस निर्णय के बाद देश का गरीब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मसीहा के रूप में देख रहा है। नोटबंदी के मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में हंगामे के चलते कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित होने के बाद सूचना व प्रसारण मंत्री ने कहा कि कांग्रेस पहले दिन राज्यसभा की कार्यवाही सुचारु ढंग से चलने से परेशान है क्योंकि सार्थक चर्चा में उसकी कोई रुचि नहीं है।

नोटबंदी के कदम को राष्ट्रीय परियोजना और व्यापक सामाजिक आंदोलन करार देते हुए वेंकैया नायडू ने कहा कि आज थोड़ी परेशानी हो रही है लेकिन इससे भविष्य बेहतर होगा। सरकार इन परेशानियों को समझती है और इसके समाधान की दिशा में कदम उठा रही है। हम यह नहीं समझ पा रहे हैं कि कांग्रेस और उनके मित्र क्यों संसद में अव्यवस्था फैला रहे हैं। वेंकैया ने संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस अब कह रही है कि प्रधानमंत्री आएंगे तभी चर्चा होगी, वे जेपीसी जांच की मांग कर रहे हैं। यह मुद्दे को भटकाने का प्रयास है। उसके पास तथ्य नहीं है और लोगों की राय उसके खिलाफ जा रही है। वे नहीं चाहते कि संसद की कार्यवाही चले और ऐसा लगता है कि वे उस दिशा में बढ़ रहे हैं। नायडू ने कहा कि नोटबंदी पर चर्चा के लिए शुरू में सहमत होने के बाद विपक्षी दल अब यू टर्न ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता संसद से बाहर चर्चा कर रहे हैं लेकिन सदन में चर्चा नहीं करना चाहते और न ही सरकार को मुद्दों पर सार्थक राय देना चाहते हैं। भाजपा सदस्यों ने शुक्रवार कंो सदन में कांंग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद द्वारा नोटबंदी के दौरान हुई मौतों की तुलना उड़ी आतंकी हमले से करने के गुरुवार को दिए बयान का विरोध किया। नायडू ने सवाल किया कि कांग्रेस को यह स्पष्ट करना चाहिए कि यह उनका निजी बयान है या पार्टी का आधिकारिक रुख है।

उन्होंने नोटबंदी पर धरना प्रदर्शन करने पर तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल पर भी निशाना साधा और कहा कि दोनों फोटो खिंचवाने के लिए रिजर्व बैंक के दफ्तर गए थे। अगर दोनों मुख्यमंत्रियों को कुछ पूछना था, तो वे वित्त मंत्री से मिल सकते थे। वेंकैया ने कहा कि उनके विरोध प्रदर्शन के दौरान भी कई स्थानों पर लोग मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे। उन्होंने प्रधानमंत्री के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने पर विपक्षी दलों की आलोचना की।

चर्चा का जवाब प्रधानमंत्री की ओर से दिए जाने की विपक्ष की मांग पर वेंकैया ने कहा कि मोदी संसद में चर्चा के दौरान पहले कई बार हस्तक्षेप कर चुके हैं। लेकिन यह चलन नहीं हो सकता है क्योंकि अतीत में संबंधित मंत्री ही सरकार की ओर से जवाब देते रहे हैं। वेंकैया ने कहा कि लोग नोटबंदी पर सार्थक चर्चा चाहते हैं लेकिन विपक्ष ने उन्हें निराश किया है। उन्होंने विपक्षी दलों से चर्चा शुरू करने का आग्रह करते हुए कहा कि क्या आप अर्थव्यवस्था को साफ सुथरा बनाने के खिलाफ हैं? क्या आप कालाधन के खिलाफ नहीं हैं?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 19, 2016 12:38 am

सबरंग