ताज़ा खबर
 

गोवा में विदेशियों के कारोबार करने पर मुख्यमंत्री की निंदा

गोवा में विदेशियों को कृषि भूमि खरीदने और नाइट क्लब चलाने जैसे खुद का कारोबार करने की कथित इजाजत देने के मामले में मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर को विपक्ष ने बुधवार को विधानसभा में घेरा।
Author पणजी | July 28, 2016 02:28 am

गोवा में विदेशियों को कृषि भूमि खरीदने और नाइट क्लब चलाने जैसे खुद का कारोबार करने की कथित इजाजत देने के मामले में मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर को विपक्ष ने बुधवार को विधानसभा में घेरा। उनका दावा है कि यह विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम का उल्लंघन है।

भाजपा के विधायक माइकल लोबो, विपक्ष के नेता प्रताप सिंह राणे, कांग्रेस सदस्य दिगंबर कामत, गोवा विकास पार्टी के फ्रांसिस्को मिक्की पेचेको और निर्दलीय विधायक विजय सरदेसाई सहित सदस्यों ने फेमा का उल्लंघन करने की अनुमति देने के लिए मुख्यमंत्री की आलोचना की। लोबो ने प्रश्नकाल के दौरान दावा किया कि उत्तर गोवा के अरपोरा गांव में जर्मनी के एक नगारिक को कृषि भूमि खरीदने की इजाजत दी गई है और आबकारी विभाग ने उसे आबकारी लाइसेंस भी प्रदान किया है।

भाजपा विधायक ने दावा किया कि जिस विदेशी व्यक्ति को आबकारी लाइसेंस दिया गया है, वह एक नाइट क्लब का भी मालिक है और यह फेमा के नियमों का उल्लंघन है। लोबो को जवाब देते हुए पारसेकर ने कहा कि जिस विदेशी नागरिक की बात की जा रही है वह भारतीय मूल के व्यक्ति को दिया जाने वाला (पीआइओ) कार्ड धारक है।

उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि विदेशियों को कैसे कृषि भूमि खरीदने की इजाजत दी गई, जिसकी विपक्ष ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। स्थिति को शांत करने के लिए पारसेकर ने कहा कि सरकार राज्य आबकारी अधिनियम में संशोधन करने का विचार कर रही है जिसमें लाइसेंस देने के लिए 25 वर्ष के अधिवास को अनिवार्य बनाने पर विचार हो रहा है। तीन विदेशी नागरिकों को राज्य में आबकारी लाइसेंस दिया गया है जिसकी समीक्षा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘विदेशियों को लाइसेंस आवंटित करने के विषय में हम कानून विभाग से राय लेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.