December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

योग दिवस के बाद अब मनेगा राष्‍ट्रीय आयुर्वेद दिवस, धनतेरस पर कार्यक्रम चलाएगी मोदी सरकार

देशभर के राज्‍यों को इस फैसले के बारे में जानकारी दे दी गई है।

Author पुणे | October 26, 2016 20:56 pm
आयुर्वेद एक प्राचीन भारतीय चिकित्‍सा विधि है।

योग दिवस के बाद केन्‍द्र सरकार ने राष्‍ट्रीय आयुर्वेद दिवस मनाने का फैसला किया है। नरेंद्र मोदी सरकार के आयुष विभाग द्वारा इस संबंध में सभी राज्‍यों को एक सर्कुलर भेजा गया है। जिसमें कहा गया है कि इस प्राचीन विज्ञान को बेहद नजरअंदाज किया गया है। भारतीय परंपराओं के अनुसार, धनतेरस को राष्‍ट्रीय आयुर्वेद दिवस की तरह मनाया जाएगा। आयुर्वेद, योग और नेचुरोपैथी, यूनानी सिद्ध और होम्‍याेपैथी मंत्रालय (आयुष) के सलाहकार मनोज निसारी ने द इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि देशभर के राज्‍यों को इस फैसले के बारे में जानकारी दे दी गई है और इसकी थीम ‘मधुमेह से बचाव और नियंत्रण के लिए आयुर्वेद’ होगी। निसारी ने कहा कि धनवंतरि आयुर्वेद के देवता हैं और यह उचित होगा कि राष्‍ट्रीय आयुर्वेद दिवस धनव‍ंतरि जयंती या धनतेरस पर मनाया जाए। राज्‍य आयुष निदेशालयों, आयुर्वेद शिक्षा संस्‍थानों और फार्मास्‍यूटिकल कंपनियों द्वारा इस अवसर पर सार्वजनिक चर्चा, सेमिनार और प्रदर्शन लगाए जाएंगे। निसारी ने कहा कि इस मौके पर हेल्‍थ चेक-अप कैंप और जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाएंगे।

इस दिवाली एटीएम से निकलेगा सोना, देखें वीडियो: 

पुणे में कई आयुर्वेद विशेषज्ञों और डॉक्‍टरों ने फैसले का स्‍वागत किया है। हालांकि ताराचंद अस्‍पताल के मैनेजिंग ट्रस्‍टी और नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व अध्‍यक्ष डाॅ सुहास परचुरे का कहना है कि फैसला स्‍वागत योग्‍य है, लेकिन आयुर्वेद तंत्र को उसकी महत्‍ता मिलनी चाहिए। आयुर्वेद एक प्राचीन भारतीय चिकित्‍सा विधि है लेकिन आयुर्वेद‍िक दवाइयां अन्‍य देशों को नहीं भेजी जा रही हैं। परचुरे ने कहा, ”हम आशा करते हैं कि आयुर्वेद दिवस की शुरुआत के साथ, कई और मुद्दे भी उठाए जाएंगे।”

READ ALSO: 3 नवंबर को 2500 पत्रकारों के साथ दिवाली मनाएंगे नरेंद्र मोदी, पर सेल्‍फी के लिए होड़ से बचने के लिए अलग इंतजाम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 26, 2016 8:56 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग