ताज़ा खबर
 

विवादों में कर्नाटक BJP अध्‍यक्ष, सूखाग्रस्‍त इलाकों के दौरे में इस्‍तेमाल करेंगे एक करोड़ की SUV

येदियुरप्‍पा के करीबियों का तर्क है कि राज्‍य में पार्टी का जनाधार मजबूत करने के लिए उन्‍हें हजारों किमी का सफर करना है, जिसके लिए उन्‍हें एक आरामदायक गाड़ी की जरूरत है।
Author नई दिल्‍ली | April 16, 2016 13:56 pm
इस कार को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं में भी काफी कौतुहल देखा जा रहा है। (ANI)

कर्नाटक बीजेपी के अध्‍यक्ष बीएस येदियुरप्‍पा विवादों में हैं। यह विवाद उनकी एक लैंड क्रूजर कार की वजह से है। इस कार की कीमत करीब एक करोड़ रुपए है। कहा जा रहा है कि वे इसमें राज्‍य के सूखा प्रभावित इलाकों का दौरा करने वाले हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी प्रवक्‍ता एस प्रकाश ने कहा है कि येदियुरप्‍पा को यह टोयटा लैंड क्रूजर प्राडो कार चीनी के कारोबार से जुड़े राजनीतिज्ञ मुर्गेश निरानी ने ‘लोन’ पर दी है ताकि वे राज्‍य का दौरा कर सकें। 2982 सीसी की यह एसयूवी बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच भी कौतुहल का विषय बनी रही। शुक्रवार को वे इसके साथ सेल्‍फी खिंचवाते नजर आए। पार्टी सूत्रों का कहना है कि येदियुरप्‍पा 24 मार्च से एक हफ्ते के लिए राज्‍य के सूखा प्रभावित इलाकों का इस कार में दौरा करेंगे। इस दौरान वे छत से निकलकर लोगों को भाषण भी देंगे। येदियुरप्‍पा ने भी कार के इस्‍तेमाल को जायज ठहराते हुए कहा कि यह उन्‍हें उनके दोस्‍त ने गिफ्ट की है। येदियुरप्‍पा ने यह भी कहा कि मुर्गेश ने उन्‍हें यह कार पार्टी के काम के लिए दी है। बाद में वे इसे वापस ले लेंगे।

येदियुरप्‍पा के करीबियों का कहना है कि यह नई कार नहीं है। करीबियों का यह भी तर्क है कि राज्‍य में पार्टी का जनाधार मजबूत करने के लिए येदियुरप्‍पा को हजारों किमी का सफर करना है, जिसके लिए उन्‍हें एक आरामदायक गाड़ी की जरूरत है। बता दें कि पिछले चुनाव में बीजेपी को कांग्रेस के हाथों शिकस्‍त का सामना करना पड़ा था।

ज्‍यादा दिन पहले की बात नहीं है, जब बीजेपी ने चीफ मिनिस्‍टर सिद्धारमैया की एक महंगी घड़ी को लेकर बीजेपी ने काफी शोरशराबा मचाया था। घड़ी की कीमत करीब 70 लाख रुपए बताई गई थी। बाद में सीएम को सफाई देनी पड़ी कि यह एक दोस्‍त ने गिफ्ट की है और सेकंड हैंड है। सीएम ने यह भी कहा था कि वे इसे सरकारी खजाने में जमा कराएंगे।

येदियुरप्‍पा साउथ इंडिया में बीजेपी के पहले और एकलौते सीएम रहे हैं। भ्रष्‍टाचार के आरोपों का सामना करने के बाद पार्टी के दबाव में उन्‍हें कुर्सी छोड़नी पड़ी थी। पिछले विधानसभा चुनाव से ऐन पहले उन्‍होंने बीजेपी को छोड़कर अपनी अलग पार्टी बना ली थी। बीजेपी को इससे काफी नुकसान भी पहुंचा। हालांकि, बाद में वे 2014 आम चुनाव से पहले दोबारा से बीजेपी में शामिल हो गए। उनके खिलाफ अधिकतर मामले कोर्ट में खारिज हो गए। अब येदियुरप्‍पा का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी और पार्टी चीफ अमित शाह ने उन्‍हें 2018 के चुनावों में कांग्रेस से सत्‍ता वापस छीनने की जिम्‍मेदारी सौंपी है। 225 विधानसभा सीटों वाले राज्‍य में उन्‍होंने बीजेपी के लिए 150 सीटों का लक्ष्‍य रखा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग