December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

कालाधन को सफेद करने के लिए आ रहे हैं फ्रॉड कॉल्स, धोखेबाजों से ऐसे बचें

500 और 1000 रुपए के नोट बंद होना लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है और उनकी इस परेशानी का फायदा उठाने के लिए कुछ धोखेबाज़ तैयार बैठे हैं।

एटीएम से पैसा निकालने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते लोग। (Source: Reuters)

अगर कोई आपको फोन कर यह कहे कि आपके अकाउंट में पड़ा पैसा अवैध है और वह उसे वैध बनाने के लिए आपसे आपके अकाउंट नंबर, एटीएम कार्ड नंबर या नेट बैंकिंग जैसी कोई भी जानकारी मांगे तो ऐसे में आपको सावधानी बरतने की जरूरत है। 500 और 1000 रुपए के नोट बंद होना लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है और उनकी इस परेशानी का फायदा उठाने के लिए कुछ धोखेबाज़ तैयार बैठे हैं। गुरुवार से पुराने नोटों को बदलवाने या फिर उन्हें खातों में जमा करवाने के लिए बैंक खुल गए हैं और शुक्रवार से एटीएम से पैसे निकलने लगे हैं। बैंक और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी लाइनें लगी हैं। ज़ाहिर है, कुछ नीमहकीम इस स्थिति का फायदा उठाना चाहेंगे और लोगों को ठगने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे। हमारे कुछ साथियों को कुछ फ्रॉड फोन कॉल्स आई, जिसमें एक धोखेबाज़ ने उनसे उनके क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग की डिटेल जैसी संवेदनशील जानकारियां और साथ ही उनसे पिन और ओटीपी के बारे में भी पूछा। इस बातचीत की कॉल रिकॉर्डिंग हमारे पास मौजूद है।

कुछ बातों का ध्यान रख कर आप ऐसे धोखेबाज़ों से बच सकते हैं।

1. ये पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात है जो कि आपको जानने की ज़रूरत है- पुराने नोटों को बदलने की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए कभी भी कोई बैंक आपको फोन कर आपसे आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी नहीं मांगेगा।

2. ये ठग आपको फोन कर आपसे कहेंगे कि वे बैंक से बोल रहे हैं और आपसे कुछ जानकारियों का वेरिफिकेशन करने के लिए कहेंगे ताकि आप बैंक जाकर पैसा जमा करवाने या निकलवाने सक्षम हो सकें। ये गलत है, क्योंकि आप किसी भी वक्त बैंक जाकर पैसे जमा करवा सकते हैं या निकलवा सकते हैं।

वीडियो देखिए: 500, 1000 के नोट बदलवाने हैं? लोगों के पास आ रहीं ऐसी फ्रॉड कॉल्‍स

3. आपको ऐसा भी फोन कॉल आ सकता है जो कहे कि आपका पैसा आपके बैंक में बिना किसी परेशानी के बदल दी जाएगी या सक्रिय कर दी जाएगी और आपसे आपकी बैंकिंग डिटेल्स पूछी जाएंगी। किसी भी परिस्थिति में आपको इन डिटेल्स का खुलासा नहीं करना चाहिए, क्योंकि अपने अकाउंट से पैसे निकलवाने के वक्त बैंक आपको नए नोट ही देगा।

4. अगर, किसी भी तरह, कोई ठग आपके कार्ड की डिटेल पाने में कामयाब रहता है, तो आपसे आपके कार्ड को वेरिफाई करने के लिए सीवीवी, पिन या ओटीपी पूछा जा सकता है। वे ये जानकारी आपसे पैसों की ठगी करने के लिए पाना चाहेंगे- उन्हें ये जानकारियां न दें।

5. ज़्यादातर मामलों में, वे ठग आपको नहीं बता पाएंगे कि वे किस बैंक से बोल रहे हैं, जब तक कि उनके पास आपकी बैंकिंग डिटेल की जानकारी न हो। हम आपको यही सलाह देंगे कि आप ऐसी कॉलस का जवाब न दें। ठगों को पहचानने का सबसे आसान तरीका ये है कि आप उनसे पूछें कि वे किस बैंक से बोल रहे हैं।

वीडियो देखिए: ATM/डेबिट कार्ड फ्रॉड से बचना चाहते हैं, तो इन आसान बातों का रखें ध्यान

हमारे एक साथी को आई एक कॉल के बाद हमने इन धोखेबाज़ नंबरों में से एक पर कॉल करने का फैसला किया और आप हमारी बातचीत सुन सकते हैं। वह ठग हमारी कार्ड डिटेल्स, सीवीवी नंबर, एक्सपायरी डेट जानना चाहता था। तो इसके बाद आपके लिए यह याद रखना बेहद ज़रूरी है कि अपने पुराने नोटों को बदलने का आपके पास केवल एक ही तरीका है। आप बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस मे जाकर नोट बदलवाएं। आप किसी भी हालात में अपनी बैंकिंग डिटेल्स किसी को न दें जो कि आपसे बैंक कर्मचारी होने का दावा करे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 7:57 pm

सबरंग