April 26, 2017

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी: आखिर कहां गलती कर गए नरेंद्र मोदी,क्यों तुरंत खाली हो रहे हैं एटीएम और बढ़ रही लोगों की कतार,जानिए

500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद से बैंकों के साथ-साथ एटीएम की भी भीड़ खत्म होने का नाम नहीं ले रही।

देशभर में कुल 2.20 लाख एटीएम हैं। (PTI Photo)

 

500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद से बैंकों के साथ-साथ एटीएम की भी भीड़ खत्म होने का नाम नहीं ले रही। एटीएम का हाल तो यह है कि उनमें कब पैसा आता है और कब खत्म हो जाता है पता ही नहीं चलता। ज्यादातर लोग इस बात से ही परेशान हैं कि वे जब भी एटीएम पहुंचते हैं तो बंद होता है या फिर उसमें कैश ही नहीं होता। दरअसल ऐसा तकनीकी दिक्कतों की वजह से हो रहा है। ज्यादातर एटीएम में 3 से 4 दराज होती हैं जिन्हें कैसेट भी कहते हैं। उनमें 100, 500 और 1000 के नोट डाले जा सकते हैं। किसी-किसी एटीएम में ये दो भी हो सकती हैं। हर कैसेट में नोट के 22 पैकेट रखे जा सकते हैं। हर पैकेट में 100-100 नोट होते हैं। मशीन की प्रोग्रामिंग इस किस्म से की जाती है कि उसमें से कोई भी नोट निकाला जा सके। लेकिन अब 500 और 1000 के नोट बंद होने की वजह से मशीन में सिर्फ 100 के नोट डाले जा रहे हैं। ऐसे में अगर किसी को एक हजार रुपए चाहिए तो एटीएम उसे 100-100 के दस नोट देगा 500 या 1000 के नोट देने की बजाए। सभी कैसेट में अगर 100 के नोट रख दिए जाएं तो एटीएम में कुल 7.5 लाख रुपए रखा जा सकता है। वहीं जब 500 और 1000 के नोट चलते थे तब एक बार में 40 लाख रुपए तक रखे जा सकते थे।

एटीएम में 500 और 2000 के नए नोट फिलहाल डाले नहीं जा सकते क्योंकि किसी भी मशीन की कैसेट का आकार उनके हिसाब से नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नए नोटों के साइज और पुराने नोटों के साइज में फर्क है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी एटीएम की इस समस्या का जिक्र किया। उन्होंने तीन हफ्ते के भीतर इससे निपटने का वादा भी किया। एटीएम की देखरेख के लिए बनी कंपनियों का कहना है कि नए नोट का विशेष विवरण उन लोगों के पास आ गया है और जल्द ही सारा काम निपटा लिया जाएगा।

एटीएम सुविधा का ख्याल रखने के लिए 40,000 लोग लगे हुए हैं। मशीनों में कैश डालने के लिए 8,800 वैन हैं। इन लोगों को देशभर के 650 जिलों में फैले 2.20 लाख एटीएम में पैसे डालने का काम करना होता है। वे लोग पुरानी करेंसी तो पहले ही निकाल चुके हैं लेकिन अभी 100-100 के नोट ही एटीएम में डाल पा रहे हैं। इस वक्त 50 प्रतिशत एटीएम काम भी नहीं कर पा रहे।

कई बैंकों के अधिकारियों में सरकार के इस कदम को लेकर थोड़ी नाराजगी भी दिखती है। एक बैंक के सीनियर अधिकारी ने नाम ना आने की शर्त पर कहा कि सरकार को इस बारे में बैंक के कर्मचारियों को पहले से जानकारी देनी चाहिए थी।

वीडियो: ऐसे दिखते हैं 500 के नए नोट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 14, 2016 8:27 am

  1. A
    anique
    Nov 14, 2016 at 10:54 am
    वह रे मोदी क्या पा रच है .....खूब ड्रामा करले....
    Reply
    1. R
      R.K. Tayal
      Nov 14, 2016 at 9:53 am
      Shrikant Sharma मोदी शेर हैं और रहेगा ! और जब शेर शिकार पर निकलता तो अच्छो अच्छों की नींद उड़ जाती हैं ! और तुम्हारी जानकारी के लिए बता दूं -शेर निकल चुका हैं. संभालना हैं तो संभाल जाओ नहीं तो कल का ग्रास बनना तो पक्का हैं ही.ख़बरदार !!
      Reply
      1. A
        Avinash
        Nov 14, 2016 at 2:08 pm
        ये शेर केवल खरगोशों का शिकार कर रहा है...भेड़िये को तो मोदी हाथ भी नहीं लगा रहा है.
        Reply
      2. S
        shib
        Nov 14, 2016 at 3:44 pm
        मोदी लक्करबाघा है जो सोते हुए बच्चों को उठा ले जाता है
        Reply
        1. S
          Shrikant Sharma
          Nov 14, 2016 at 8:46 am
          गुजरात का शेर अरुण जेटली और प्रभु,रविशंकरजैसे मिनिस्टरों को बर्खास्त करने के बजाय अाय हो कर रो रहा है?१२५ करोड़ ईमानदार भारतीय का लीडर इतना अाय? काले धन के सौदागरों के पाश में फंस कर रो रहा है?अरुणजेटली.रविशंकर प्रसाद और प्रभु को बरकहस्त करने के बजाय देश को दाल dal में छोड़ करभाग रहा है कायरों के सामान ?नेहरू १९६२ में चीनी गद्दार कृष्णमेनन का भ्रष्टाचार उजागर होने पर रोया था क्या ?या इंदिरा गाँधी १९७०-७१ में रोई? जो जनता लाइन में लगी है वोह अरुण जेटली की भ्रष्ट बंकिंगमिनीस्ट्री के काराण है.
          Reply
          1. P
            Parmod
            Nov 14, 2016 at 10:12 am
            मोदी महान ह ओर रहेगा
            Reply
          2. S
            Shrikant Sharma
            Nov 14, 2016 at 8:16 am
            तकनीकी दिक्कतों के बहाने सीएम आदमी की तकलीफें काम नहीं होंगी मोदी जी.उसके लिए तुम को ज़िम्मेजारी तय करके अरुण जेटली को तुरंत मंत्रिमंडल से बर्खास्त करना होगा वरना जनता तकलीफ उठा लेगी पर तुम्हारी सर्कार बर्खास्त कर DEGI सोनिया बहुल ने नब्ज़ पकड़ ली है इमेन्डर गरीब आदमी की वोह लाइन में खड़ा है राहुल उसके साथ खा तो हो रहा है तुम तो भ्रष्ट बैंकिंग सिस्टम के NPA को काम करने के लिए बैक दूर से भ्रष्ट बैंकिंग अफसरों और मिनिस्टरों अरुणजेटली से मिलकर उनसे ५० दिन की मोहलत मांग रहे हॉ२४ नवम्बर KO क्याKARLOGE
            Reply
            1. S
              Shrikant Sharma
              Nov 14, 2016 at 8:31 am
              मैं तुम्हारा समर्थक हूँ मोदी तुम को चौराहे पर laakar अपने वोट को लज़्ज़ित नहीं करूंगा पर तुम एक्शन कुओं नहीं ले रहे हो भ्रष्ट मंत्रियुओं के खिलाफ जिन्होंने तुम्हारी image और नोट bandee कोसंजय गाँधी के ज़माने की नसबंदी से भी बदतर हालात में लाकर खड़ा कर दिया है.दुनिया देख रही है तुम को नहीं दिखरहा है एक भी कालेधन से भरे फार्म हाउस पर chapa नहीं मार गया अब उनको २४/11 तक की मोहलत दिला दी है इनbhrashth मिनिस्टरों को चौराहे पर लाकर नंगा करने के बजाय तुम को रोटा देख लगता है yahee मोदी गुजरात काशेरहोता tha
              Reply
              1. Load More Comments

              सबरंग