ताज़ा खबर
 

महात्मा गांधी ने नहीं बल्कि इन्होंने दिया था, ‘Quit India’ का नारा, जानिए कौन हैं ये

आज से 75 साल पहले आजादी के लिए भारत के युवाओं में नया जोश पैदा करने वाले 'Quit India' स्लोगन को असल में किसने गढ़ा। इसपर आमतौर पर लोग महात्मा गांधी का नाम लेते हैं। लेकिन ये सच नहीं है।
शायद ये जानकर आपको हैरानी हो कि ‘Quit India’ स्लोगन गांधीजी की देन नहीं है। उन्होंने तो सिर्फ इस मुहिम को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान निभाया था। (फोटो सोर्स ट्विटर)

आज से 75 साल पहले आजादी के लिए भारत के युवाओं में नया जोश पैदा करने वाले ‘Quit India’ स्लोगन को असल में किसने गढ़ा। इसपर आमतौर पर महात्मा गांधी का नाम लिया जाता है। लेकिन शायद ये जानकर आपको हैरानी हो कि ‘Quit India’ स्लोगन गांधीजी की देन नहीं है। उन्होंने तो सिर्फ इस मुहिम को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान निभाया था। असल में ‘Quit India’ के रचयिता थे कांग्रेस नेता यूसुफ मेहराली। उन्होंने ही सर्वप्रथम इस स्लोगन को आठ अगस्त 1942 को बंबई के गोवालिया टैंक मैदान पर अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति के सामने पेश किया। जिसे सर्वसम्मति से पारित किया गया। इसके बाद पूरा देश ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन में कूद पड़ा। हालांकि स्लोगन को असल में किसने गढ़ा इसपर इतिहासकारों के अलग-अलग तर्क हैं। लेकिन मीडिया रिपोर्ट की मानें तो Quit India के स्‍लोगन को लिखने का श्रेय कांग्रेस नेता यूसुफ मेहराली को जाता है। माना जाता है कि यूसुफ मेहराली महात्मा गांधी के करीबी थे। उन्होंने इस मूवमेंट को शुरू करने से पहले कुछ दिन पहले महात्मा गांधी से मुलाकात कर उन्हें इस स्लोगन के बारे में बताया था। गौरतलब है कि यूसुफ तब बंबई के मेयर थे। वो आजादी की लड़ाई में करीब आठ बार जेल गए। इसपर के गोलपालस्वामी ने अपनी किताब गांधी एंड बांबे में लिखा है कि ‘भारत छोड़ो’ यूसुफ मेहराली ने ही महात्मा गांधी के सामने पेश किया था, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया। दूसरी तरफ यूसुफ के बायोग्राफर मधू दंडवते बताते हैं, ‘यूसुफ ने ‘Quit India’ नाम से एक बुकलेट पब्लिश की थी। ये बुकलेट 1942 मूवमेंट की शाम को लाई गई थी।’

मधू दंडवते ने अपनी किताब में लिखा था, ‘Shantikumar Morarji has recorded that Gandhi conferred with his colleagues in Bombay on the best slogan for independence– when this was is not stated. One of them suggested ‘Get out’. Gandhi rejected it as being impolite. Rajagopalachari mentioned ‘Retreat’ or ‘Withdraw’. That too did not find favour. Yusuf Meherali presented Gandhi with a bow bearing the inscription ‘Quit India’. Gandhi said in approval, ‘Amen’.” वहीं यूसुफ मेहराली सेंटर के को-फाउंडर्स में से एक जीजी पारिख कहते हैं कि यूसुफ ने 7 अगस्‍त (1942) से पहले ही ‘Quit India’ लिखे कई बैज प्रिंट कराए थे। जानकारी के लिए बता दे कि महात्मा गांधी के नेतृत्‍व में शुरु हुआ ये आंदोलन सोची-समझी रणनीति का हिस्‍सा था। आंदोलन की खास बात ये थी कि इसमें पूरा देश शामिल हुआ। ये ऐसा आंदोलन था, जिसने ब्रिटिश हुकूमत की जड़ें हिलाकर रख दीं। तब गोवालिया टैंक मैदान से गांधीजी ने भाषण दिया। उन्‍होंने कहा, ‘मैं आपको एक मंत्र देना चाहता हूं जिसे आप अपने दिल में उतार लें, यह मंत्र है, करो या मरो।’ बाद में इसी गोवालिया टैंक मैदान को अगस्त क्रांति मैदान के नाम से जाना जाने लगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग