ताज़ा खबर
 

नहीं रहा महात्मा गांधी को 1944 में नाथूराम गोडसे के हमले से बचाने वाला आजादी का सिपाही

गोडसे गांधी जी की तरफ एक चाकू से हमला करने के लिए आगे बढ़ा कि तभी भिलारे ने उसे पकड़ लिया।
राष्ट्रपिता मोहनदास करमचंद गांधी (1869-1948) (फाइल फोटो)

1944 में नाथूराम गोडसे से महात्मा गांधी को बचाने वाले स्वतंत्रता सैनानी भिकू दाजी भिलारे का 98 वर्ष की उम्र में बुधवार को निधन हो गया। भिलारे को लोग ज्यादातर भिलारे गुरुजी के नाम से संबोधित किया करते थे। महाराष्ट्र के सतारा जिले की महाबलेश्वर तहसील में भिलारे जी का उनके गांव भेलर में अंतिम संस्कार किया गया। पंचगनी में नाथूराम गोडसे द्वारा महात्मा गांधी पर हमले के दौरान भिलारे ने ही गांधी जी को बचाया था। कई मीडिया समूहों को दिए अपने इंटरव्यूज़ में भिलारे ने दावा किया था कि पंचगनी में होने वाली महात्मा गांधी की प्रार्थना सभा में सभी को आने की इजाजत थी। जिस दिन गांधी जी पर गोडसे ने हमला किया उस दिन प्रार्थना सभा में ऊषा मेहता, प्यारेलाल, अरुणा आसफ अली समेत कई अन्य लोग वहां पर मौजूद थी।

गोडसे गांधी जी की तरफ एक चाकू से हमला करने के लिए आगे बढ़ा कि तभी भिलारे ने उसे पकड़ लिया। भिलारे ने इंटरव्यू में दावा किया था कि उन्होंने गोडसे का हाथ मोड़ दिया और उससे चाकू छीन लिया था। हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार वह गांधी जी को मारने के लिए आया था लेकिन फिर भी उन्होंने गोडसे को छोड़ देने की बात कही थी। रिकोर्ड के अनुसार गांधी जी के पोते तुषार गांधी ने अपनी किताब पर भी इस मामले पर ध्यान केंद्रित किया लेकिन इस बात के कोई कागजी दस्तावेज नहीं है कि भिलारे ने गोडसे द्वारा गांधी जी पर हमला किए जाने के दौरान उनकी रक्षा की थी। तुषार ने अपनी किताब में भिलारे और मणिशंकर पुरोहित द्वारा गोडसे से गांधी को बचाने की बात कही गई है।

कपूर कमीशन के अनुसार जुलाई 1944 में हुई इस घटना का अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है। कमीशन द्वारा जब मणिशंकर पुरोहित को निकाल दिया गया था तो उन्होंने इस घटना को जुलाई 1947 का बताया था और इसमें कहीं भी भिलारे का जिक्र नहीं किया गया था। 2008 में टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए एक इंटरव्यू में मणि भवन गांधी संग्राहलय के अध्यक्ष धीरूभाई मेहता ने बताया था कि गोडसे के भाइयों में से एक ने जुलाई 1944 में गांधी पर हमला किया था जिसे एक युवा द्वारा रोक दिया गया था। मेहता ने कहा कि यह बात गांधी जी के करीबी रहे प्यारेलाल जी के दस्तावेजों में भी दर्ज है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग