ताज़ा खबर
 

रामबीर शौकीन के घर से मिले उत्तराखंड पुलिस से लूटे गए हथियार

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने पूर्व निर्दलीय विधायक रामबीर शौकीन की बवाना इलाके में स्थित परिसर से एक एके 47 और एक एसएलआर रायफल बरामद की है। इन हथियारों को गिरफ्तार बदमाश नीरज बवाना ने उत्तराखंड पुलिस से लूटा था। पुलिस ने बताया कि यह बरामदगी बवाना से पूछताछ के बाद की गई। रामवीर […]
Author April 11, 2015 09:11 am
दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने पूर्व निर्दलीय विधायक रामबीर शौकीन की बवाना इलाके में स्थित परिसर से एक एके 47 और एक एसएलआर रायफल बरामद की है।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने पूर्व निर्दलीय विधायक रामबीर शौकीन की बवाना इलाके में स्थित परिसर से एक एके 47 और एक एसएलआर रायफल बरामद की है। इन हथियारों को गिरफ्तार बदमाश नीरज बवाना ने उत्तराखंड पुलिस से लूटा था। पुलिस ने बताया कि यह बरामदगी बवाना से पूछताछ के बाद की गई। रामवीर शौकीन ने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस शौकीन को गिरफ्तारी कर सकती है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया,‘हमें पूर्व विधायक के आवास से एक एके 47 और एक एसएलआर रायफल समेत दो प्रतिबंधित हथियार मिले हैं। इन हथियारों को बवाना ने 16 दिसंबर को उत्तराखंड पुलिस से लूटा था। बवाना ने एक अन्य अपराधी अमित भूरा को उस समय पुलिस हिरासत से भगाने में सक्रिय भूमिका निभाई थी, जब उसे बागपत अदालत ले जाया जा रहा था।’ एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पूर्व विधायक नीरज बवाना का मामा हैं। वो नीरज की गिरफ्तारी के बाद से फरार हैं। पुलिस के मुताबिक नीरज अपने मामा रामबीर शौकीन का संरक्षक था।

रामबीर शौकीन 2013 में दिल्ली में हुए विधानसभा चुनाव में मुंडका से निदर्लीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़कर जीते थे। उन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार को बाहर से समर्थन दिया था। फरवरी 2015 में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले शौकीन अपनी पार्षद पत्नी रीता शौकीन और समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए थे। कांग्रेस ने रीता शौकीन को टिकट दिया था, लेकिन वो चुनाव हार गईं।

पुलिस अब शौकीन को गिरफ्तार कर सकती है। रामवीर शौकीन ने अपने ऊपर लग रहे आरोपों से इनकार किया है। उनका कहना है कि उनकी बवाना में जमीन नहीं है। यह उनके खिलाफ एक राजनीतिक साजिश है। उन्होंने कहा कि नीरज बवाना मेरा भांजा है, इस वजह से पुलिस मुझे परेशान करती है।

विशेष पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने बताया कि इस मामले में पूर्व विधायक रामबीर शौकीन का नाम पहले से सामने आ रहा था। अब लूटे गए हथियारों की बरामदगी से शौकीन के खिलाफ पुख्ता सबूत मिलने शुरू हो गए हैं। हथियार जमीन में गाड़े गए थे।

पुलिस के मुताबिक, अमित उर्फ भूरा की फरारी की योजना पूर्व विधायक के कार्यालय में ही बनी थी। मुजफ्फरनगर के सरनवाली गांव निवासी अमित उर्फ भूरा 15 दिसंबर को बागपत में पेशी के दौरान अपने साथियों के साथ उत्तराखंड के पुलिसकर्मियों से एके 47 और एसएलआर लूट कर फरार हो गया था।

नीरज ने ही अमित भूरा को भरी अदालत में न सिर्फ गोलियां चलाकर भगाया था बल्कि पुलिस की एके-47 भी लूटी थी। 2013 में जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद से नीरज फरार था। नीरज पर मकोका लगाया गया था। भूरा को हाल ही में पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसके बाद नीरज बवाना को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया था। हत्या, अपहरण और जबरन उगाही सहित 60 से अधिक मामलों में नीरज की तलाश थी।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.