ताज़ा खबर
 

कैदियों के भागने में कौन सा राज्‍य है अव्‍वल,पहली बार किसने तिहाड़ जेल की सुरक्षा को भी बता दिया था धता, जानिए

भारत के इतिहास में सबसे ज्यादा जेल तोड़कर भागने वाले कांड उत्तर प्रदेश में हुए हैं। हालांकि, इसकी एक वजह यह भी हो सकती है कि बाकी राज्यों के मुकाबले यूपी में ही सबसे ज्यादा जेल हैं।
यह तस्वीर प्रतीक के तौर पर इस्तेमाल की गई है।

भारत के इतिहास में सबसे ज्यादा जेल तोड़कर भागने वाले कांड उत्तर प्रदेश में हुए हैं। हालांकि, इसकी एक वजह यह भी हो सकती है कि बाकी राज्यों के मुकाबले यूपी में ही सबसे ज्यादा जेल हैं। इसके अलावा राइट टू इनफॉर्मेशन एक्ट के अंतर्गत मिली जानकारी के मुताबिक, यूपी में 2,050 कैदी ऐसे थे जो कैद के दौरान ही मर गए थे। ये आंकड़े 2010 से अबतक के हैं। उत्तर प्रदेश के जेल विभाग ने यह जानकारी दी। आंकड़ों के मुताबिक, 2015 तक यूपी से जेल तोड़ने के कुल 53 मामले सामने आए। इसके अलावा दूसरे नंबर पर पंजाब रहा। वहां से 29 ऐसे मामले सामने आए थे। वहीं तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र है। वहां की जेल को 13 बार तोड़ा जा चुका है।

दिल्ली की तिहाड़ जेल बाकियों की मुकाबले काफी सुरक्षित मानी जाती है लेकिन वहां से भी लोग भाग चुके हैं। तिहाड़ के 50 सालों के इतहास में वहां से अबतक कुल 6 बार भागने की कोशिश हुई। सबसे पहले वहां से भागने वाला शख्स अमेरिका का तस्कर था। उसका नाम डेनियल वॉलकोट था। वह 1965 में तिहाड़ से भागा था। वह तिहाड़ से पुलिस की गाड़ी लेकर भागा और वहां से सफदरजंग एयरपोर्ट पहुंच गया। फिर वहां से वह प्लेन लेकर कहीं भाग गया। पुलिस को डेनियल के भागने के बाद सब पता लगा। उसके बाद सुरक्षा इंतजाम कड़े किए गए लेकिन फिर भी कई लोग भागे। जिनमें चार्ल्स शोभराज का नाम भी शामिल है। वह सुरक्षा कर्मियों को नशीली मिठाई खिलाकर भागा था।

सिमी सदस्यों के एनकाउंटर का वीडियो देखिए

हाल में भोपाल की सेंट्रल जेल तोड़ने का मामला सामने आया था। वहां से 8 सिमी सदस्य भाग गए थे। हालांकि, उन्हें कुछ ही घंटों बाद घेर लिया गया था। घेरने के बाद मौके पर ही उनका एनकाउंटर कर दिया गया था। जहां शिवराज सरकार इसपर अपनी और पुलिस की पीठ थपथपा रही थी वहीं कई लोग इसे सोचा-समझा ‘खेल’ बता रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग