ताज़ा खबर
 

सर्जिकल स्ट्राइक से उरी हमले के शहीदों के घरवाले खुश, बोले- अच्छा हुआ कि भारत ने हमला किया

भारत ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पार करके पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) में घुसकर कई आतंकी ठिकानों को नष्ट किया था। इस हमले से उरी हमले में शहीद हुए लोगों के घरवाले खुश हैं।
उरी हमले में भारत के 17 जवान शहीद हो गए थे।

 

 

भारत ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पार करके पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) में घुसकर कई आतंकी ठिकानों को नष्ट किया था। इसमें दुश्मन को भारी नुकसान पहुंचा था। हालांकि, पाकिस्तान ने भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के दावे को झूठ बताया। उसने कहा कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक नहीं किया बल्कि युद्ध विराम तोड़ा था जिसका करारा जवाब दिया गया था और इस दौरान पाकिस्तान के 2 सिपाही मारे गए थे। पाकिस्तान ने उन सिपाहियों की तस्वीरें भी जारी की थीं। लेकिन इस सर्जिकल स्ट्राइक से भारतीय लोग काफी खुश हैं। खुशी मना रहे लोगों में उरी में शहीद हुए जवानों के परिवार भी हैं। देखिए किसने क्या कहा-

उत्तर प्रदेश: सिपाही हरिंदर सिंह, राजेस सिंह, गणेश शंकर और लांसनायक राजेश यादव का घर
सिपाही हरिंदर यादव के छोटे भाई नागेंद्र ने कहा, ‘यह तो होना ही था। पाकिस्तान कभी भी बातें की जुबान नहीं समझता।’ नागेंद्र ने बताया कि वह भी अपने भाई की तरह आर्मी में भर्ती होने की तैयारी कर रहा है। वहीं जौनपुर में रहने वाले सिपाही राजेश सिंह के भाई उमेंद्र ने भारतीय सेना के कदम को अच्छा बताया। सिपाही गणेश यादव के भाई सुरेश यादव जो कि संत कबीर नगर में रहते हैं उन्होंने कहा, ‘इस एक्शन से लोगों में उर्जा भर गई है। सबसे अच्छी बात यह है कि भारतीय आर्मी का कोई जवान उस ऑपरेशन में शहीद नहीं हुआ।’ बलिया में रहने वाले लांसनायक राजेश यादव के भाई ने कहा कि उन्होंने पहली बार भारतीय सेना द्वारा किसी पर हमला करने की खबर सुनी है।

जम्मू कश्मीर: हवलदार रवि पाल, सुबेदार करनैल सिंह का घर
‘हमने अपनों को खो दिया लेकिन LOC पर किए गए भारतीय हमले के बारे में सुनकर अच्छा लगा।’ यह बात हवलदार रवि पाल के 11 साल के बेटे वंश ने कही। वहीं वंश की छोटी बहन ने कहा कि उसे अपने पापा पर हमेशा गर्व रहेगा। 6 साल की उस छोटी लड़की ने कहा कि सेना की कार्रवाई ने उनका हौसला बढ़ा दिया है। सुबेदार करनैल सिंह के घरवालों ने कहा कि यह हमला काफी पहले कर दिया जाना चाहिए थे। ताकी पाकिस्तान भारत पर हमला करने से पहले 10 बार सोचता।

बिहार: नायक राज किशोर, हवलदार अशोक कुमार सिंह, सिपाही राकेश सिंह, नायक एसके विद्यार्थी का घर
नायक राज किशोर जिन्होंने दिल्ली के हॉस्पिटल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था, उनकी पत्नी ने कहा, ‘अच्छा है कि भारतीय सरकार अब बदला ले रही है। लेकिन मेरे पति दुनिया छोड़कर जा चुके हैं। मुझे उनपर गर्व है लेकिन परिवार की चिंता भी होती है।’ हवलदार अशोक कुमार सिंह के पिता जगनारायण सिंह ने बताया कि उन्होंने पहले भी अपना एक बेटा देश के लिए कुर्बान किया था। उन्होंने कहा, ‘यह सुनकर सुकून मिलता है कि भारत हमला कर रहा है। मेरे जैसे अंधे आदमी को भी लगता है कि बॉर्डर पर जाकर बदला लेना चाहिए।’ सिपाही राकेश सिंह के भाई ने कहा, ‘हमने सोच लिया था अगर सरकार कार्रवाई ना करती तो आमरण अनशन पर बैठ जाते।’ नायक सीके विद्यार्थी की पत्नी ने कहा, ‘मैं सोच रही हूं कि सरकार ने यह कदम पहले क्यों नहीं उठाया।’

महाराष्ट्र: सिपाही टीएस सोमनाथ, विकास उईक, विकास कुलमेठे, लांसनायक चंद्रकांत गलांडे
सिपाही टीएस सोमनाथ के पिता ने अपने बेटे समेत शहीद हुए सभी लोगों के लिए दुआ की। सतारा में रहने वाले लांसनायक चंद्रकांत के पिता ने कहा, ‘जब मेरे बड़े बेटे ने मुझे बताया कि पाकिस्तान से आए आतंकियों ने हमला कर दिया है तो मेरी आंखों में चंद्रकांत का चेहरा आ गया।’ अमरावती में रहने वाले सिपाही विकास ने सरकार के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा, ‘मैं खुश हूं। सिर्फ विकास के लिए नहीं बल्कि उन सबके लिए जो शहीद हुए।’

बंगाल: सिपाही गंगाधर दुलाई और विश्वजीत घोरिया का घर
सिपाही गंगाधर का परिवार हावड़ा में रहता है। उनके पिता ने कहा, ‘हम टीवी पर खबर देखकर पूरा दिन रोते रहे। उसकी आत्मा को शांति मिले ऐसी दुआ करते हैं। मैं इस खबर का उस तरीके से जश्न नहीं मना सकता जैसा बाकी लोग मना रहे हैं। लेकिन हां इस खबर ने मुझे सुकून दिया है।’

झारखंड: सिपाही निमान खुजूर, जावरा मुंडा
सिपाही निमान की पत्नी ने कहा, ‘मेरे व्यक्तिगत जीवन को जो क्षति पहुंची है वह मैं बयां नहीं कर सकती लेकिन फिर भी सेना की कार्रवाई के बारे में सुनकर दिल को तसल्ली मिलती है।’ सिपाही जावरा की पत्नी और तीनों लड़कियों के हिसाब से आर्मी ने उनके पिता की मौत का बदला ले लिया है।

राजस्थान: हवलदार निंब सिंह रावत का घर
निंब सिंह के परिवार को भी लगता है कि आर्मी ने बदला ले लिया है। हवलदार निंब के भाई ने कहा, ‘हम सरकार की कार्रवाई से खुश हैं।’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 1, 2016 2:56 pm

  1. No Comments.
सबरंग