ताज़ा खबर
 

आने वाली पीढ़ियों के लिए गंभीर खतरा है आतंकवाद: प्रधानमंत्री मोदी

भारत और जर्मनी ने ऐसी ताकतों के खिलाफ कड़े कदम उठाने का इरादा भी जाहिर किया जो आतंकवाद को बढ़ावा देती हैं, उसका समर्थन करती हैं और उसे धन मुहैया कराती हैं।
Author बर्लिन | May 31, 2017 01:38 am
पशु बिक्री रोक पर कांग्रेस ने साधा सरकार पर निशाना। (फाइल फोटो)

आतंकवाद को आने वाली पीढ़ियों के लिए गंभीर खतरा करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मानवतावादी ताकतों को इस समस्या से मुकाबले के लिए एक साथ आना चाहिए। भारत और जर्मनी ने ऐसी ताकतों के खिलाफ कड़े कदम उठाने का इरादा भी जाहिर किया जो आतंकवाद को बढ़ावा देती हैं, उसका समर्थन करती हैं और उसे धन मुहैया कराती हैं।  मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के बीच हुई वार्ता में व्यापार, कौशल विकास, जलवायु परिवर्तन व साइबर सुरक्षा जैसे अहम मुद्दों पर भी चर्चा हुई। मर्केल के साथ वार्ता के बाद एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में मोदी ने कहा, ‘हमारे रिश्तों के विकास की गति तेज है, दिशा सकारात्मक है और मंजिल स्पष्ट है। जर्मनी भारत को हमेशा एक शक्तिशाली, तैयार और सक्षम साझेदार के रूप में पाएगा।’ अपनी वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने साइबर राजनीति, विकास पहलों, सतत शहरी विकास, क्लस्टर प्रबंधकों का सतत विकास व कौशल विकास, डिजिटलीकरण के क्षेत्र में सहयोग, रेल सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग, व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा और भारत-जर्मन केंद्र पर लगातार सहयोग पर एक संयुक्त उद्देश्य घोषणा-पत्र सहित 12 समझौते या सहमति-पत्रों पर दस्तखत भी किए।

दोनों नेताओं ने आतंकवाद और चरमपंथ के खतरे और वैश्विक स्तर पर उनके फैलाव के बाबत अपनी साझा चिंता को रेखांकित करते हुए आतंकवाद के सभी स्वरूपों की निंदा की। संयुक्त बयान के मुताबिक, ‘वे उन सभी के खिलाफ कड़े कदम उठाने पर सहमत हुए जो आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं, समर्थन करते हैं, धन मुहैया कराते हैं, ऐसी सुरक्षित पनाह देते हैं जिससे आतंकवादी समूहों व संगठनों को समर्थन मिलता है।’भारत और जर्मनी ने आतंकवाद निरोधक संयुक्त कार्य समूह की नियमित बैठकों के जरिए इन चुनौतियों का मुकाबला करने में अपने करीबी सहयोग की तारीफ की। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर समग्र संधि को अंतिम रूप दिए जाने और उसे स्वीकार किए जाने का आह्वान भी किया। आतंकवाद का हवाला देते हुए मोदी ने कहा कि यह आने वाली पीढ़ियों के लिए एक बड़ी समस्या है और मानवता की सभी ताकतों को इस समस्या से मुकाबले के लिए साथ आना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘इस समस्या से साथ निपटने के लिए दोनों देशों मिलकर काम करेंगे और साइबर सुरक्षा व खुफिया जानकारी साझा करना इस सहयोग का बेहद अहम पहलू है।’ जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन और स्वीडन जैसे यूरोपीय देशों में हाल में हुए आतंकवादी हमलों के बाद मोदी की ओर से की गई यह टिप्पणी बेहद अहम मानी जा रही है । पिछला बड़ा आतंकवादी हमला मैनचेस्टर में हुआ था जिसमें 22 लोग मारे गए थे। प्र्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने द्विपक्षीय संबंधों की गहन समीक्षा की।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग