ताज़ा खबर
 

यूपी: राम नाईक बोले- उत्तर भारतीयों की वजह से ‘मुंबई’ देश की आर्थिक राजधानी बनी है

उत्तर प्रदेश में व्यापार एवं वृद्धि के अवसरों को रेखांकित करते हुए नाईक ने कहा कि यहां वाराणसी, लखनऊ तथा फिरोजाबाद जैसे वाणिज्यिक केंद्र हैं जहां साड़ी, चिकन के काम तथा चूड़ियों का विनिर्माण किया जाता है।
Author ग्रेटर नोएडा | April 20, 2016 22:05 pm
उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कॉल ड्राप की समस्या को उठाते हुए मोबाइल टेलीफोन सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार की जरूरत को बुधवार (20 अप्रैल) रेखांकित किया। उन्होंने सेवाओं पर वैश्विक प्रदर्शनी, 2016 के उद्घाटन के मौके पर अपने संबोधन में कहा कि आंकड़े बताते हैं कि देश में सेवा उद्योग तेजी से बढ़ रहा है लेकिन सेवा गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की जरूरत है।

नाईक ने कहा, ‘‘रवि शंकर जी (दूरसंचार मंत्री) ने बताया कि हमारा मोबाइल नेटवर्क कितना बड़ा है आज घरों में साफ-सफाई का काम करने वाले घरेलू सहायकों, केला बेचने वाले सभी के पास मोबाइल फोन हैं लेकिन साथ ही हमें गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की जरूरत है।’’

उत्तर प्रदेश में व्यापार एवं वृद्धि के अवसरों को रेखांकित करते हुए नाईक ने कहा कि यहां वाराणसी, लखनऊ तथा फिरोजाबाद जैसे वाणिज्यिक केंद्र हैं जहां साड़ी, चिकन के काम तथा चूड़ियों का विनिर्माण किया जाता है।

राज्यपाल ने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश समेत उत्तर भारतीय लोगों ने मुंबई के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं मुंबई से हूं। आपको पता है मुंबई देश की आर्थिक राजधानी है। अगर मुंबई आर्थिक राजधानी बनी है तो यह उत्तर भारतीयों की वजह से जिनका इसमें 25 से 30 प्रतिशत योगदान है। इसी प्रकार की ताकत उत्तर प्रदेश में है।’’

राम नाईक ने यह भी कहा कि राज्य में मानव शक्ति, कला एवं शिल्प के रूप में काफी संसाधन हैं लेकिन राज्य की वृद्धि संभावना को हकीकत बनाने के लिये ‘ब्रांडिंग’ की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में कुशल और अकुशल श्रम हैं। अगर देश को विकास करना है, तब कुशल के साथ-साथ अकुशल श्रम को रोजगार उपलब्ध कराना होगा।’’

अपने संबोधन में दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि देश में एक अरब से अधिक मोबाइल फोन हैं और 40 करोड़ इंटरनेट कनेक्शन हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सेवा क्षेत्र में तेजी से वृद्धि के लिये अनुकूल माहौल बनाने की कोशिश कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.