ताज़ा खबर
 

‘ऐ दिल है मुश्किल’ के समर्थन में आए बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो, कहा- गुंडों की पार्टी रही है MNS

उन्होंने एमएनएस पर हमला बोलते हुए कहा कि एमएनएस पार्टी को कानून हाथ में लेने का कोई अधिकार नहीं है और फिल्म देखने का फैसला दर्शक ही करें तो बेहतर होगा
केंद्रीय मंत्री और जानेमाने पार्श्व पायक बाबुल सुप्रियो। (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो भी करण जौहर की फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ की स्क्रीनिंग के सपोर्ट में दिख रहे हैं। बाबुल सुप्रियो गुरुवार को फिल्म की स्क्रीनिंग का विरोध करने के लिए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) पर जमकर बरसते दिखे। उन्होंने एमएनएस पर हमला बोलते हुए कहा कि एमएनएस पार्टी को कानून हाथ में लेने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि फिल्म देखने का फैसला दर्शक ही करें तो बेहतर होगा, एमएनएस को ऐसा फैसला लेने का कोई अधिकार नहीं है। इतना ही नहीं, उन्होंने तो यहां तक भी कहा कि राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस हमेशा से गुंडो की पार्टी रही है।

बाबुल सुप्रियो ने यह बयान फिल्म को लेकर गृहमंत्री राजनाथ सिंह से की जाने वाली मुलाकात से पहले दिया। गुरुवार को फिल्म के प्रोड्यूसर मुकेश भट्ट, धर्मा प्रोडक्शंस के सीईओ अपूर्वा मेहता, फॉक्स स्टार के सीईओ विजय सिंह, बाबुल सुप्रियो और कुलमीत मक्कर गृहमंत्री से मुलाकात करने पहुंचे थे। मुकेश भट्ट ने कहा कि उन्होंने बड़ी उम्मीदों के साथ गृहमंत्री से मुलाकात की है और पूरी सुरक्षा की मांग की है।

MNS ने दी धमकी- ‘ऐ दिल है मुश्किल’ दिखाई, तो मल्टीप्लेकसों के शीशे तोड़ देंगे

Read Also: ऐ दिल है मुश्किल दिखाने वाले थियेटर्स को सुरक्षा देगी सरकार, भाजपा बोली- काश पहले सेना का साथ दे देते करण जौहर

इसके साथ ही मुकेश भट्ट ने कहा कि जो लोग फिल्म नहीं देखना चाहते वह ना देखें, लेकिन दूसरों को फिल्म देखने से ना रोकें तो बेहतर होगा। बता दें कि फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ 28 अक्टूबर को रिलीज होने वाली है, लेकिन महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना कार्यकर्ताओं ने फिल्म का कोई भी शो नहीं चलाने की धमकी दी है।  फिल्म का विरोध करने के चलते 12 एमएनएस के 12 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। महाराष्ट्र के अलावा, गोवा, कर्नाटक, गुजरात में भी फिल्म ए दिल है मुश्किल का विरोध हो रहा है। फिल्म में पाकिस्तानी कलाकर फवाद खान हैं। इसको लेकर करण ने सफाई दी थी कि जब वो फिल्म बना रहे थे तब भारत और पाकिस्तान के बीच हालात अलग थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.