December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी: ममता बनर्जी को मिला जदयू, सपा, आप, राकांपा का साथ, कहा- मोदी के हाथों में सुरक्षित नहीं है देश

ममता बनर्जी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को नोटबंदी के फैसले का करारा जवाब आने वाले चुनाव में मिलेगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। (Photo Source: PTI/File)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शक्ति प्रदर्शन करते हुए बुधवार को नोटबंदी के खिलाफ जनसभा की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला तेज करते हुए आरोप लगाया कि देश उनके हाथों में सुरक्षित नहीं है। जदयू, सपा, राकांपा और आप जैसी पार्टियां ममता का समर्थन कर रही थीं। ममता बनर्जी ने जंतर मंतर पर लोगों को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि ऊंचे मूल्य के नोटों के अमान्य किए जाने के फैसले से लोगों को परेशानी हो रही है एवं किसान, युवा, महिला, श्रमिक और व्यापारियों सहित समाज के लगभग हर तबके के लोकतांत्रिक अधिकार छीन लिए गए। साथ ही इस फैसले से देश की आर्थिक प्रगति ठहर गई। ममता ने भाजपा नीत सरकार पर आम आदमी को ‘लूटने’ का आरोप लगाया और इस बात पर आश्चर्य जताया कि स्विस बैंक में खाता रखने वालों के खिलाफ क्यों कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है । उन्होंने आगाह किया कि ‘काला कानून’ लागू करने के लिए लोग आगामी विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ पार्टी को ‘अच्छा सबक’ सिखाएंगे।

ममता ने कहा, ‘मैं चुनौती दे सकती हूं कि कोई भी भाजपा को मत नहीं देगा। अगर मैं आपकी जगह पर (प्रधानमंत्री) होती तो मैं लोगों से माफी मांगती। आपको इतना अहं क्या है? आपने देश में हर किसी को कालाबाजारी बता दिया है और आप खुद एक संत में बदल गए हैं।’ जदयू नेता शरद यादव ने अपने संबोधन में नोटबंदी कवायद की वैधता पर सवाल खडे किए और प्रधानमंत्री को चुनौती दी कि वह संसद को बताएं कि इस फैसले से किस प्रकार देश को फायदा होगा। जदयू नेता शरद यादव ने कहा, ‘आपने किस कानून के तहत यह कदम उठाया? आप एक व्यक्ति को अपनी मेहनत से अर्जित की गई कमाई निकालने से रोक रहे हैं जो उसका मौलिक अधिकार है। नोटबंदी से छोटे कारोबारियों का कारोबार चौपट हो गया है। आप संसद में आइए और स्पष्ट कीजिए कि किस प्रकार इससे काले धन पर काबू लगेगा।’ प्रदर्शन के दौरान यादव की मौजूदगी अहम है क्योंकि उनकी पार्टी ने नोटबंदी का समर्थन किया है। विरोध प्रदर्शन को सपा के धर्मेंद्र यादव, आप के राघव चड्ढा और राकांपा के माजिद मेनन ने भी संबोधित किया।

ममता ने लोगों के उस समूह पर भी निशाना साधा जो मोदी के समर्थन में नारे लगा रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि उन लोगों को उनकी जनसभा को बाधित करने के लिए भेजा गया था। उन्होंने आश्चर्य जताया कि पुलिस के साथ प्रशासन क्या कर रहा है। उपचुनाव के मंगलवार को आए नतीजों का जिक्र करते हुए तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता ने कहा कि मध्य प्रदेश में भाजपा की जीत के अंतर में खासी कमी आयी है और ‘मोदीजी ने देश का बारह बजा दिया।’ उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई उस समय तक जारी रहेगी जब तक कि लोगों की समस्या दूर नहीं हो जाती। उन्होंने कहा कि वह नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों के 28 नवंबर के देशव्यापी प्रदर्शन का समर्थन करेंगी। नोटबंदी के खिलाफ ममता ने पिछले हफ्ते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ एक रैली को संबोधित किया था।

ममता ने कहा कि सरकार की पूरी विश्वसनीयता समाप्त हो गयी है और नोटबंदी के कारण जीडीपी में भी खासी कमी आ सकती है। उन्होंने कहा, ‘इस सरकार को जाना होगा…मुझे अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि मोदीजी के तहत देश सुरक्षित नहीं है। आप मनमाने तरीके से काम कर रहे हैं।’ ममता ने विशेष ब्यौरा दिए बिना आरोप लगाया कि नोटबंदी के कारण देश में आजादी के पहले का सामंती दौर वापस आ गया है और लोग नकदी पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

उन्होंने आशंका जतायी कि सरकार की नजर अब सोना, जमीन और अन्य संपत्तियों की ओर जा सकती है। सात ही ममता ने कहा, ‘लगभग सभी दुकानें बंद हैं। यहां तक कि मॉल भी बंद हो गए हैं। हमारी अर्थव्यवस्था में सुधार आया था और हम वैश्विक मंदी को झेल गए। लेकिन नोटबंदी के कारण हमारी जीडीपी में कमी आएगी। अर्थव्यवस्था पर बुरा प्रभाव पड़ा है। मुझे किसी सरकार से भय नहीं है। आप मुझे जेल में डाल दीजिए, मैं तब भी भयभीत नहीं होउंगी। मेरी लडाई जारी रहेगी।’

वीडियो में देखें- ममता बनर्जी ने जंतर-मंतर पर की रैली; बोलीं- ‘इस बार कोई भी बीजेपी का समर्थन नहीं करेगा’

वीडियो में देखें- नोटबंदी विवाद: मायावती बोलीं- “दाल में थोड़ा नहीं बहुत कुछ काला है”

वीडियो में देखें- नोटबंदी: विपक्ष ने संसद के बाहर किया प्रदर्शन; राहुल गांधी बोले- “यह अब तक का सबसे बड़ा घोटाला”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 23, 2016 3:52 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग