ताज़ा खबर
 

आगरा: RSS के कार्यक्रम के लिए निजी कॉलेजों से मांगे गए 51,000 रुपए, संघ कराएगा जांच

SFCAA के अध्‍यक्ष ब्रजेश चौधरी का आरोप है कि उन्‍हें भी इस कार्यक्रम में रुपए जमा करने के लिए कहा गया था।
Author अागरा | August 11, 2016 13:24 pm
संघ प्रमुख मोहन भागवत। (पीटीआई फाइल फोटो)

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ का आगरा में होने वाला चार-दिवसीय कार्यक्रम विवादों में घिर गया है। इस कार्यक्रम में RSS मुखिया मोहन भागवत को 20-24 अगस्‍त के बीच आगरा, बरेली और अलीगढ़ मंडल के यूनिवर्सिटी व कॉलेजों के 2,000 से ज्‍यादा अध्यापकों और प्रोफेसरों से मिलने वाले हैं। सेल्‍फ फाइनेंस्‍ड कॉलेज एसोसिएशन ऑफ आगरा (SFCAA) के बैनर तले निजी डिग्री कॉलेजों के प्रबंधकों ने डॉ. भीम राव अंबेडकर यूनिवर्सिटी (DBRAU) के चीफ प्रॉक्‍टर पर कार्यक्रम के लिए हर एक से जबरदस्‍ती 51,000 रुपए जमा कराने का आरोप लगाया है। श्रीवास्‍तव आरएसएस के कार्यक्रम ‘विश्‍वविद्यालयी एवं महाविद्यालयी शैक्षिक सम्‍मेलन’ के प्रभारी हैं। SFCAA के तहत आगरा और अलीगढ़ के 250 कॉलेज आते हैं। संस्‍था के महासचिव आशुतोष पचौरी ने द इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि उन्‍होंने शिकायत दर्ज कराने के लिए DBRAU के कुलपति से मिलने का वक्‍त मांगा है। उन्‍होंने कहा कि एसोसिएशन के सदस्‍य गुरुवार को आगरा के डीएम से मिलेंगे और श‍िकायत की एक प्रति यूपी के मुख्‍य सचिव को भेजेंगे। पचौरी ने कहा, ”मैं भागवत या उनके कार्यक्रम के खिलाफ नहीं हूं। लेकिन राज्‍य यूनिवर्सिटी के वरिष्‍ठ अफसरों द्वारा इस तरह के कार्यक्रम आयोजित किया जाना और कुछ नहीं, शिक्षा का भगवाकरण है। अगर वे ‘भगवाकरण’ करना ही चाहते हैं, तो हमें कॉलेज का शोषण मंजूर नहीं है।”

SFCAA के अध्‍यक्ष ब्रजेश चौधरी का आरोप है कि उन्‍हें भी इस कार्यक्रम में रुपए जमा करने के लिए कहा गया था। उन्‍होंने आरोप लगाया, ”श्रीवास्‍वत कॉलेज मालिकों को धमका रहे हैं कि अगर उन्‍होंने पैसा नहीं दिया तो वह उनकी मान्‍यता रद करा देंगे।” जब इस बारे में श्रीवास्‍तव से संपर्क किया गया तो उन्‍होंने कहा कि SFCAA के लोग निजी रंजिश की वजह से ऐसा कर रहे हैं। इस संबंध में आरएसएस ब्रज प्रांत प्रचार प्रमुख प्रदीप ने कहा कि वे कार्यक्रम के लिए सिर्फ 100 रुपए रजिस्‍ट्रेशन शुल्‍क ले रहे हैं। उन्‍होंने कहा, ”आरएसएस कभी किसी से रुपए नहीं मांगता। ये 100 रुपए कार्यक्रम के दिन की तैयारियों के लिए लिए जा रहे हैं। श्रीवास्‍तव पर लगे आरोप गंभीर हैं और हम इसकी जांच करेंगे।” उन्‍होंने कहा कि श्रीवास्‍तव आरएसएस में किसी पद पर नहीं है और उन्‍हें सिर्फ जाना-पहचाना नाम होने की वजह से ज्‍यादा से ज्‍यादा शिक्षकों को कार्यक्रम में लाने की जिम्‍मेदारी दी गई है।

READ ALSO: AAP ने पंजाब चुनाव में जीत के लिए Twitter पर ट्रेंड कराया हैशटैग, पर लोगों ने उल्‍टा ले लिया निशाने पर

दूसरी तरफ, आरएसएस के सूत्रों का कहना है कि इस संबंध में अागरा के ऑफिस में बैठक की गई थी। एक वरिष्‍ठ आरएसएस नेता के अनुसार, ”हम मोहन भागवत के कार्यक्रम के साथ इस तरह का विवाद सहन नहीं कर सकते। संघ आरोपों को लेकर गंभीर है और स्‍थानीय अधिकारियों को मामले की जांच के लिए कह दिया गया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    Mangesh Patil
    Aug 11, 2016 at 1:03 pm
    मानव तस्करी का आरोप लगा था उसकी भी जॉच करो भाई साहब
    (0)(0)
    Reply